Dussehra in hindi दशहरा से जुड़ी इन बातों से अब तक अंजान है लोग

Dussehra in hindi दशहरा से जुड़ी इन बातों से अब तक अंजान है लोग

956 Views

भारतीय संस्कृति में कई सारे त्योहारों का समावेश है, खास बात यह है कि हर त्योहार अपने आप में एक विशिष्ट भूमिका रखता है। ऐसा ही एक प्रमुख त्योहार है दशहरा। जी हां अश्विन शुक्ल दशमी को dussehra in hindi या विजयादशमी का त्योहार हर साल बड़ी धूम-धाम के साथ मनाया जाता है।

Dussehra in hindi

यह पर्व भारतीय संस्कृति के वीरता का पूजक, शौर्य का उपासक माना गया है। मानव और समाज के रक्त में वीरता प्रकट हो इसलिए प्रतिवर्ष दशहरे का उत्सव मनाया जाता है। हिन्दू धर्म में इस पर्व को मनाने के पीछे बरसों पुराना इतिहास छिपा हुआ है।

हिन्दू संप्रदाय द्वारा प्रतिवर्ष यह त्योहार मनाया तो जाता है लेकिन Dashahra से जुड़ी बहुत सी ऐसी बातें है, जिनसे अधिकतर लोग अब भी अनभिज्ञ हैं और आज हम आपसे इन्ही विषयों से जुड़ी कुछ ऐसी ही जरूरी बातों पर आपका ध्यान दिलाने जा रहे हैं। तो चलिए जानते हैं इसे विस्तार से….

“दशहरा” शब्द का निर्माण

Dashahra word construction
Dashahra word construction

दशहरा dussehra in hindi पर्व के बारे में तो सभी लोग भलीभांति जानते होगें। लेकिन अगर इस शब्द के बारे में किसी से पूछा जाए तो,

ऐसे बहुत से कम लोग होगें जो वास्तव में इसकी उत्पत्ति के बारे में जानते हों।

आज हम आपको इसी शब्द की उत्पत्ति के बारे में बताने जा रहे हैं।

दरअसल दशहरा या “दसेरा” शब्द दश एवं अहन् से बना है। इसके अलावा Dashahra उत्सव,

की उत्पत्ति के विषय में कई कल्पनाएं की गई हैं। कुछ लोगों का मानना है कि यह कृषि का उत्सव है।

दशहरे का सांस्कृतिक पहलू भी है। वहीं दूसरी ओर कुछ लोगोें के मत के अनुसार यह रण यात्रा का द्योतक है,

क्योंकि दशहरा के समय वर्षा समाप्त हो जाती है, नदियों की बाढ़ थम जाती है।

इसके अलावा इस पर्व का सम्बध नवरात्रि से भी है। इसमें महिषासुर के विरोध,

में देवी के साहसपूर्ण कार्यों का भी उल्लेख मिलता है।

navratri fast : व्रत के दौरान इन चीजों का रखे ध्यान तो रहेगें पूरे दिन एनर्जी से भरपूर

असत्य पर हुई थी सत्य की विजय

Truth was conquered over untruth
Truth was conquered over untruth Dashahra

यह पर्व अपने आप में बहुत ही खास महत्व रखता है। ऐसा माना जाता है कि भगवान राम जी,

ने इसी दिन रावण का वध कर असत्य पर सत्य की विजय प्राप्त की थी।

हांलाकि यह नवरात्रि के दसवें दिन मनाया जाता है इसलिए इसका नाम दशहरा भी है।

विषेश जानकारी के लिए आपको बतादें कि दशहरा का पर्व पूरे साल की तीन अत्यंत शुभ तिथियों में से एक है,

जिसमें से दो तिथियां हैं चैत्र शुक्ल की एवं कार्तिक शुक्ल की प्रतिपदा। यह वही दिन है,

जब कोई भी नया कार्य प्रारंभ किया जाता है, एवं इस दिन शस्त्र पूजा एवं वाहन की पूजा की जाती है।

navratri me tantrik din : नवरात्रि में ये दो दिन तांत्रिक शक्तियां रहती हैं सक्रिय

इसलिए की जाती है वाहन की पूजा

This is why vehicles are worshiped
This is why vehicles are worshiped Dashahra

दशहरा का दिन किसी भी काम की शुरूआत के लिए बहुत ही शुभ घड़ी माना जाता है।

इस दिन अगर आप किसी भी काम की शुरूआत करते हैं तो उसे शुभ फल प्राप्त होता है।

वही इस दिन लोग अपने वाहन को अच्छी तरह से धो कर व साफ कर उसकी पूजा करते हैं।

इसकी पूजा करने को लेकर भी एक विशेष कहावत प्रचलित है जिसे बहुत ही कम लोग जानते हैं।

दरअसल ऐसा माना जाता है कि प्राचीन काल में लोग इस दिन विजय की प्रार्थना कर रण यात्रा के लिए प्रस्थान करते थे।

दशहरा का पर्व दस प्रकार के पापों जैसे- काम, क्रोध, लोभ, मोह मद, मत्सर, अंहकार, आलस्य,

हिंसा और चोरी के समान अवगुणों को छोड़ने की प्रेरणा हमें देता है।

Navratri : तो इस वजह से हर साल इसी दिन मनाई जाती है नवरात्रि

युध्द की देवी के भक्त थे राम

Rama was a devotee of Goddess of War
Rama was a devotee of Goddess of War Dashahra

यह तो सभी जानते हैं कि भगवान राम जी की अर्धांगनी यानि पत्नी देवी सीता को रावण,

अपहरण करके व छल के साथ लंका ले गया था। भगवान राम युध्द की देवी मां दुर्गा के भक्त थे,

उन्होने युध्द के दौरान पहले नौ दिनों तक मां दुर्गा की पूजा की और दसवें दिन दुष्ट रावण का युध्द के,

दौरान वध कर दिया। इसलिए विजयादशमी एक बहुत ही महत्वपूर्ण दिन माना गया है।

वहीं दूसरी ओर राम जी की विजय के प्रतीक स्वरूप इस पर्व को विजयादशमी कहा जाता है।

शक्ति के प्रतीक का उत्सव दशहरा

Dussehra, a celebration of the symbol of power
Dussehra, a celebration of the symbol of power

dussehra in hindi पवित्रता को सरावोर करता दशहरा का यह त्योहार शक्ति का प्रतीक भी माना जाता है।

शारदेय प्रतिपदा से नवमी तक निश्चित नौ तिथि, नौ नक्षत्र, नौ शक्तियों की नवधा भक्ति,

के साथ सनातन काल से मनाया जा रहा है। इस शुभ अवसर पर लोग नवरात्रि के नौ,

दिन जगदंबा के अलग-अलग रूपों की उपासना करके शक्तिशाली बने रहने की कामना करते है।

भारतीय संस्कति सदा से ही वीरता व शौर्य की समर्थक रही है। दश

हरे का उत्सव भी शक्ति के प्रतीक के रूप में मनाया जाने वाला उत्सव है।

All story image source from Google

लगातार ऐसी जानकारी पाने के लिए आगे दिए सोशल बटन पर लाइक तथा फॉलो जरूर करे:

और

भविष्य में आने वाली नयी Religion अपडेट के लिए सीधे हाथ पर दिए। नोटिफिकेशन को चालू (allow) और डाउनलोड करे फ़ास्ट Mobile App .

जानकारी को सबसे पहले अपने दोस्तों तक पहुंचने के लिए नीचे दिए सोशल मीडिया की मदद ले और शेयर करे ।

इस तरह की खबरों को सबसे पहले पढ़ने के लिए ‘सब्सक्राइब’ करे।


Leave a comment