इन उपायों को करने से बरसाते हैं भगवान गणेश कृपा

These measures are sown by Lord Ganesha grace
 
4,302 Views

भगवान गणेश को हम कई नामों से जानते हैं इनमे से एक नाम दुखहर्ता भी है जो सभी के दुखों को दूर करते हैं. भगवान गणेश को प्रथम पूज्य देव की उपाधि प्राप्त है किसी भी शुभ कार्य में सर्वप्रथम भगवान गणेश की ही पूजा कि जाती है.

मनोकानमा पूर्ती

According to scriptures
According to scriptures

भगवान गणेश अपने सभी भक्तों की मनोकामना को पूरा करते हैं लेकिन शास्त्रों के अनुसार यदि व्यक्ति को अपनी विशेष कामना को पूर्ण करना है,

तो भगवान गणेश की पूजा के अलग-अलग उपायों को अपनाकर आप अपनी मनोकामना पूर्ण कर सकते हैं.

इन उपायों को करने के लिए बुधवार का दिन श्रेष्ठ होता है. बुधवार के दिन किये गए उपाय शीघ्र ही व्यक्ति की मनोकामना को पूरा करते हैं.

धन आभाव को दूर करने के लिए

To remove wealth deprivation
To remove wealth deprivation

बुधवार के दिन प्रातः स्नानादि से निवृत्त होकर कांसे की थाली पर चंदन से “ॐ गं गणपतयै नमः” मंत्र को लिखकर इस थाली में बूंदी के लड्डुओं को रखकर

Related  जिन लोगो का नाम शुरू होता है "P" से उनमें होती हैं ये खास बातें

किसी गणेश मंदिर में दान करने से व्यक्ति को धन समस्या से मुक्ति मिलती है इसके साथ ही अचानक धन लाभ के भी योग बनते हैं.

अपनी मनोकामना की पूर्ती के लिए

To fulfill your wish
To fulfill your wish

यदि आप अपनी किसी मनोकामना को पूरा करना चाहते हैं.

तो मन में उस मनोकामना को रखकर बुधवार के दिन किसी गणेश मंदिर में जाकर,

भगवान गणेश को 21 गुड़ की ढेली और दूर्वा अर्पित करने से आपकी मनोकामना शीघ्र ही पूर्ण होती है.

सुख समृद्धि प्राप्ति के लिए 

यदि बुधवार के दिन नियमित रूप से, अपने घर के मंदिर में भगवान गणेश को शुद्ध घी और गुड़ का भोग लगाकर.

उसे किसी गाय को खिलाने से आपके घर में सुख समृद्धि हमेशा बनी रहती है.

इस उपाय को करने से धन संबंधी सभी समस्याएं भी समाप्त हो जाती हैं.

Related  जिन लोगो का नाम शुरू होता है "P" से उनमें होती हैं ये खास बातें
भगवान गणेश के अभिषेक का विधान
Legislation of Lord Ganesha's Anointing
Legislation of Lord Ganesha’s Anointing

शास्त्रों में भगवान गणेश के अभिषेक का उल्लेख किया गया है.

इसके अनुसार यदि बुधवार के दिन भगवान गणेश का अभिषेक शुद्ध जल से किया जाता है.

गणपति अथर्वशीर्ष का पाठ कर मावे से निर्मित लड्डुओं का भोग लगाया जाता है.

तो इससे व्यक्ति को विशेष फल की प्राप्ति होती है.

हमारे सोशल परिवार का हिस्सा बनने के लिए आगे दिए सोशल मीडिया पर क्लिक कर फॉलो करें: FACEBOOK व TWITTER

भविष्य में आने वाली नयी सरकारी जॉब्स के अपडेट से बने रहने के लिए सीधे हाथ पर दिए नोटिफिकेशन को चालू (allow) जरुर करें. 

नीचे दी गयी स्टोरी भी पढ़े:

सुखी व समृध्द जीवन जीने के लिए अपनाएं ये उपाय

भगवान शिव को बिल्व पत्र चढ़ाने से पहले इन नियमों का पालन अवश्य कर लें

शास्त्र के अनुसार हर परेशानी के हल लिए जलाएं अलग अलग तेल का दीपक

Related  जिन लोगो का नाम शुरू होता है "P" से उनमें होती हैं ये खास बातें

तो इसलिए भगवान गणेश को पसंद है मोदक, जानें इसके पीछे क्या कारण है 

 

Author Profile

Ramgovind kabiriya
Ramgovind kabiriya
मैं रामगोविन्द कबीरिया मुझे लिखने का काफी शौक है, मैं कन्टेन्ट राइटिंग में पिछले तीन सालों से काम कर रहा हूॅं। मैंने इन्दौर के डीएवीवी यूनिवर्सटी से एम.ए. मासकम्युनिकेशन किया है। इसके अलावा मैंने कम्प्युटर के क्षेत्र से सम्बधित पीजीडीसीए भी किया है। मैं न्यूज़, फैशन, धर्म, लाईफस्टाइल, वायरल स्पाॅर्टस आदि सभी कैटेगिरी में लिखता हूॅं।

Related posts

Leave a Comment