1 से 60 महीने के बच्चों को क्या-क्या खिलाये (गाइड)

Prakash Panwar
70 Views

आज के आधुनिक युग में वयस्कों के साथ-साथ बच्चों में मोटापा देखने को मिलेगा। जब बच्चों का शरीर व मानसिक विकास सही तरीके से नहीं होगा। तो वह जिंदगी इस भागदौड़ में खुद को मजबूत कैसे कर पाएंगे। इसके लिए बच्चों को खास तरह का पोषक तत्व देना अति आवश्यक है। जिसके माध्यम से बच्चों के शारीरिक और मानसिक विकास ठीक प्रकार से हो सके। तो चलिए आज हम बच्चों bachon ka khana in hindi के जरूरी पोषक तत्वों के बारे में आपको बताएंगे। साथ ही साथ आपको यह भी पता चलेगा। कि बच्चों की डेली डाइट में किस प्रकार के खाने को शामिल किया जाना अति आवश्यक है:

bachon ka khana in hindi

1 से 5 साल के बच्चों के खाने में निम्न प्रकार के तत्व baccho ke liye healthy food

कैल्शियम के फायदे

जब पोषक तत्वों की बात की जाएगी। तो बच्चों के लिए सबसे जरूरी पोषक तत्व कैल्शियम को छोड़ा नहीं जा सकता है। क्योंकि यह बच्चों में मजबूत हड्डियों और स्वस्थ दांतो के विकास में अहम भूमिका निभाता है। वैसे मांसपेशियों और हार्ट को भी मजबूत बनाने के लिए यह अति आवश्यक है। जैसे बढ़ती उम्र के बच्चों को कैल्शियम युक्त फूड आइटम्स जरूर खिलाना चाहिए। बच्चों में कैल्शियम की भरपाई करने के लिए, आप इन्हें पनीर, दही, दूध, पालक, ब्रोकली, आदि खिला सकते हैं।

फाइबर की भूमिका

यदि आप किसी भी उम्र के हो लेकिन फाइबर युक्त आहार का सेवन आपके शरीर के लिए जरुरी बताया गया है। लेकिन बच्चों के लिए इसकी एक सीमित मात्रा रखना जरूरी है। जिसकी मदद से बच्चे के पाचन को दुरुस्त रखने में मदद मिलेगी। इससे फायदा यह होगा कि बचपन में होने वाले मोटापे के खतरे और भी कम हो जाएंगे। बच्चों की रोजाना के खाने में फाइबर युक्त फल और सब्जी दे सकते हैं। जिसमें शामिल है सेब, केले, नाशपाती आदि।

शरीर में आयरन का काम

पूर्व में बताए गए पोषक तत्वों के अलावा आयरन भी बच्चों के स्वास्थ्य में काफी अहम भूमिका निभाता है। आयरन के चलते बच्चों में रेड ब्लड सेल्स बनने का काम होता है। जिसकी मदद से पूरे शरीर में ऑक्सीजन ले जाने का कार्य होता है। यदि बच्चों में आयरन की कमी हुई, तो एनीमिया जैसा रोग और अन्य कई स्वास्थ्य संबंधित समस्या हो सकती है। इसके लिए आप बच्चियों के रोजाना वाले भोजन में आयरन की पर्याप्त मात्रा रखें। आपको यह आयरन साबुत अनाज, बीन्स, नट्स, अनार, चुकंदर और हरे पत्तेदार सब्जियों में मिल जाएगा।

bachon ka khana in hindi me jarii poshak tatv
bachon ka khana in hindi me jarii poshak tatv

विटामिन सी का बच्चों पर प्रभाव

पोषक तत्वों की संख्या में आयरन के बाद हम विटामिन सी के बारे में बात करेंगे। यह विटामिन सी शरीर के लिए इसलिए जरुरी है। क्योकि यह बच्चों की इम्युनिटी को मजबूत करने के साथ-साथ बेहतर स्वास्थ्य और सुरक्षा देने में यह मदद करता है। यह हमारे शरीर को कई बीमारियों से लड़ने के लिए मदद करता है। अपने बच्चों को विटामिन सी देने के लिए संतरा आंवला और अन्य खाद्य पदार्थ को शामिल करके दे सकते हैं।

विटामिन डी से क्या होता है bachon ka khana in hindi

जिस प्रकार कैल्शियम बच्चों की वृद्धि करने में सहायक है। ठीक उसी प्रकार से विटामिन डी भी पूरी तरह से बेहतर हड्डियों और दातों के निर्माण की मजबूती के लिए मदद मिलती है। अगर आप बढ़िया इम्यूनिटी और तंत्रिका तंत्र सुचारू रूप से काम करें। तो इसके लिए विटामिन डी भी जरूरी है। सबसे बढ़िया बात तो यह है कि विटामिन डी का सबसे अच्छा प्राकृतिक स्रोत सूरज की रोशनी में है। इसके अलावा खानपान में आप मांस, अंडा, मछली और साबूदाना भी खा सकते है। जिसके बाद तो विटामिन डी की कमी नहीं होगी।

ek saal ke bachon ka khana in hindi
ek saal ke bachon ka khana in hindi

1 साल के बच्चे का खाना bachon ka khana in hindi (1 year baby diet chart in hindi)

  • 3 month baby food chart in hindi: 0 से 3 महीने के शिशु के लिए सबसे बढ़िया आहार सिर्फ मां का दूध ही होता है। यह दूध सभी प्रकार के पोषक तत्वों से भरपूर होता है। दूध की सही मात्रा रहे, तो बच्चा हष्ट-पुष्ट ही रहता है।
  • 3 से 6 महीने के शिशु को दूध के अलावा ठोस आहार भी देना शुरू करना चाहिए। ठोस आहार की शुरुआत दाल के पानी, दलिया, सैरलेक्स आदि को देकर कर सकते हैं। सैरलेक्स को अच्छी तरह से मैच करके बच्चों को थोड़े-थोड़े समय के अंतराल में दे सकते हैं।
  • 6 month ka baby ki diet in hindi: 6 से 8 महीने के बच्चों को ठोस आहार लेने की आदत जब पड़ जाए। तब उन्हें फल और सब्जियां भी देना शुरू करें। क्योंकि 6 महीने के बाद बच्चों के दांत निकलने शुरू हो जाते हैं। इस कारण से उन्हें दांतों में बेचैनी होने लगती है। वह कुछ ना कुछ चीजें मुंह में लेकर के रखना पसंद करते हैं। ऐसे में आप उन्हें फल व सब्जी दे सकते हैं।
  • 10 month baby food chart in hindi: 9 से 10 महीने वाले बच्चों को खाने में फिश, चिकन और मीट भी खिलाया जा सकता है। लेकिन यह सुनिश्चित कर लें कि वह अच्छे से पक्का हो और मुलायम हो। ध्यान दे, हड्डी वाला हिस्सा भूल कर ही बच्चों को ना दें।
  • 12 month ka baby ki diet in hindi: 11 और 12 महीने में बच्चों को दूध, बिस्किट, फ्रूट और जूस आदि भी खिला सकते हैं। लेकिन एक बात का ध्यान रखे हैं कि रात्रि में मां का दूध पिलाना ही उचित रहता है।
do saal ke bache ko khana me kya de
do saal ke bache ko khana me kya de

2 साल के बच्चों को क्या खिलाएं (2 years indian baby food chart in hindi)

2 साल की अवस्था में बच्चे अधिकतर दूध पीना छोड़ देते हैं। इस कारण से उनके लिए पोषक तत्वों की पूर्ति का माध्यम केवल भोजन ही रह जाता है। 2 साल का बच्चा चलना और दौड़ना की सीख जाता है। इससे बच्चे की अतिरिक्त गतिविधियां बढ़ जाती है। ऐसे में विकास सही रूप से हो, उसके लिए डाइट की भी महत्वपूर्ण भूमिका रहती है। 2 साल के बच्चों के लिए डाइट में शामिल करें:

  • पनीर कटलेट
  • अंडा करी
  • मटर और आलू का पराठा
  • मूंग की दाल का चीला
  • हरी बीन्स
  • नमक कम मात्रा में
  • मिर्ची कम मात्रा में
  • तेल कम मात्रा में
teen saal ke kids ke khane me maslo ka dhyan rakhe
teen saal ke kids ke khane me maslo ka dhyan rakhe

3 साल के बच्चे को क्या खिलाना चाहिए (3 years baby food chart in hindi)

तीसरे साल में बच्चों के खाने bachon ka khana in hindi में मसालों की मात्रा को भी शामिल करें। लेकिन मसाले की यह मात्रा निम्न प्रकार की होनी चाहिए:

  • स्ट्रांग मसालों से परहेज करें
  • कम मात्रा में हल्दी का उपयोग करें
  • रोजाना वाले बर्तन में खाना खिलाएं
  • अधिक मीठा खिलाने से बचें
  • अधिक चटपटा ना खाएं
chothe saal me chote baby ko proper diet chaiye
chothe saal me chote baby ko proper diet chaiye

4 साल के बच्चे को क्या खिलाएं (4 saal ke bache)

इस उम्र के bachon ka khana in hindi बच्चों को तीन बार प्रॉपर तरीके से खाना खिलाना आवश्यक है। जैसे:
नाश्ते में खिलाए

  • दलिया
  • ओट्स
  • बेसन चीला
  • सूजी चीला
  • पोहा
  • आलू भर के पराठा
  • पनीर भर के पराठा
  • कभी सादा पराठा

कुछ समय ब्रेक के बाद

सेब तरबूज आम केला दे सकते हैं

लंच के समय

  • दाल-चावल, सब्जी-रोटी
  • खिचड़ी
  • दही

शाम के वक्त का खाना

  • उबला हुआ आलू
  • बनाना शेक
  • ब्राउन ब्रेड बटर लगाकर दे

रात्रि में क्या खिलाए

  • डिनर में आप दाल रोटी के अलावा वह खाने में दे सकते हैं, जो आपने बनाया है।
  • रात में सोने से पहले दूध पिलाने की आदत जरूर डालें।
panch saal ke kids ke khane me kya hona chaiye
panch saal ke kids ke khane me kya hona chaiye

5 साल के बच्चों का भोजन चार्ट bachon ka khana in hindi (5 years baby food chart in hindi)

सुबह के समय में

  • एक कप दूध
  • रात भर भिगो कर रखे हुए बादाम

नाश्ते के समय में

  • एक कप दलिया
  • पोहा
  • उपमा

नाश्ते के कुछ घंटों बाद

  • फ्रेश फ्रूट एक कप
  • फेवरेट जूस एक कप
  • टोमेटो सूप एक कप

दोपहर के खाने में

  • दलीया सब्जी आधा कटोरी
  • पनीर की सब्जी आधा कटोरी
  • चपाती एक
  • चावल एक कप
  • सलाद इच्छा अनुसार

शाम के वक्त स्नेक दें

  • फ्रूट चाट एक कप
  • सैंडविच
  • पिज़्ज़ा
  • चॉकलेट मिल्क शेक

रात्रि के भोजन में

  • सब्जी आधा कटोरी
  • चपाती एक
  • मूंग की दाल

आप में से काफी लोग यह सोच रहे होंगे। कि सुबह दोपहर और शाम को क्या इतनी सारी चीजे बच्चो को खिलानी है। तो हम आपको बता दे, आप एक दिन में सुबह को बताई जाने वाली किसी एक चीज़ को बनाये। ऐसा आप दोपहर और रात में भी करे। इंटरनेट पर रिसर्च और कई बड़े न्यूट्रीशियन को देखने के बाद. केवल सभी काम की बातो को आपके सामने रखा गया है।

All story image source from Google

लगातार ऐसी जानकारी पाने के लिए आगे दिए सोशल बटन पर लाइक तथा फॉलो जरूर करे:

और

भविष्य में आने वाली नयी Health अपडेट के लिए सीधे हाथ पर दिए नोटिफिकेशन को चालू (allow) और डाउनलोड करे फ़ास्ट Mobile App .

जानकारी को सबसे पहले अपने दोस्तों तक पहुंचने के लिए नीचे दिए सोशल मीडिया की मदद ले और शेयर करे ।

इस तरह की खबरों को सबसे पहले पढ़ने के लिए ‘सब्सक्राइब’ करे।


Author Profile

Prakash Panwar
Prakash Panwar
मैं एक फ्रीलॉंसर हिंदी कंटेंट राइटिंग करता है. मुझे टेक्नोलॉजी, एंटरटेनमेंट, पॉलिटिक्स और एजुकेशन जैसी बिट पर लिखना पसंद करता है. खाली समय में कंप्यूटर पढ़ना बहुत अच्छा लगता है. क्वालिफिकेशन की बात की जाये तो में बी-टेक कंप्यूटर साइंस से अध्यनरत हूँ.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

vastu dosh nivaran: बिना घर को तोड़े करे गृह दोष के सरल उपाय

Pin3TweetShare14 Shares 70 Viewsपरेशानियां हमारे जीवन का हिस्सा होती है। यह जैसे हमारे जीवन में आती है,, ठीक वैसे ही चली भी जाती है। लेकिन क्या आपके भी घर में भी परेशानियां खत्म नहीं हो रही है। या फिर कोई ना कोई समस्या बार-बार आपका दरवाजा खटकाती रहती है। ऐसे […]
vastu dosh nivaran

Subscribe US Now