ramdan sehri

अच्छा तो इसलिए रमजान में सुबह उठकर खाया जाता है खाना

Health
26 Views

 

देश और दुनिया भर में मुस्लिम भाइयों के लिए रमजान का महीना शुरू हो चूका है। रमजान के इस पाक महीने में सारे मुसलमान भाई रोजा रखते हैं। यह इस्लाम के पांच स्तंभों में से एक है। ramadan sehri रमजान के महीने 30 दिन तक रोजे रखे जाते हैं। रोजे रखने के लिए सुबह के वक्त उठकर खाना खाया जाता है। तो क्या कभी आपने यह सोचा है कि रोजा रखने के लिए सुबह उठ कर खाना क्यों जरूरी होता है। क्या सुबह सवेरे से लेकर शाम सूरज डूबने तक बिना कुछ खाए पिए रोजा रखा जाता है। तो चलिए आज इस्लामिक मान्यता के अनुसार रोजे की सहरी बारे में विस्तार से जानते हैं:

क्यों रमजान में सुबह उठकर खाना खाया जाता है

रमजान में रोजा रखने के लिए सूरज निकलने से पहले खाना खाते हैं। इसे सहरी भी कहा जाता है।

सहरी का वक्त सूरज निकलने से पहले का होता है।

जो सुबह फज्र की अजान होने पर खत्म हो जाता है।

ramadan sehri details in Hindi

इस प्रकार सुबह फज्र की नमाज़ के साथ रोजा की शुरुआत होती है।

और सूरज डूबने का ज्ञानी शाम को मगरिब की अजान होने पर रोजा खोला जाता है।

इस कारण से रमजान में सुबह उठकर खाना खाया जाता है।

ramadan me sehri ko lekar kya hai islamic manyata
ramadan me sehri ko lekar kya hai islamic manyata

क्या कहते हैं इस्लामिक धर्मगुरु सहरी के बारे में

सहरी के बारे में इस्लामिक धर्मगुरु का कहना है। कि सहरी फर्ज नहीं है, बल्कि यह सुन्नत है।

मतलब कि अगर सहरी कर के रोजा रखा जाता है, तो सवाब मिलता है।

लेकिन अगर किसी वजह से आप सहरी नहीं कर पाते हैं।

यानी आप सुबह में उठकर कुछ खा नहीं पाते हैं। तो तब भी आप रोजा रख सकते हैं।

रोजा रखने को लेकर क्या कहते हैं पैगंबर मोहम्मद

बताया जाता है कि सहरी के बारे में पैगंबर मोहम्मद यह बताते हैं, कि जो इंसान रोजा रखना चाहता है।

वह सहरी जरूर करें उन्होंने यह भी कहा कि सहरी किया करो।

क्योंकि इसमें बहुत फायदा होता है। सहरी का खाना बड़ा ही मुबारक खाना होता है।

अगर आपको कुछ भी खाने का मन नहीं होता है। तो सिर्फ खजूर खा ले या पानी ही पी लें।

सहरी को लेकर इस्लामिक किताबों से जुड़ी मान्यता

इस्लाम में किताबों में लिखा गया है, कि सहरी खाने वालों पर अल्लाह की रेहमत फरमाते हैं।

अल्लाह के फरिश्ते सहरी करने वालों के लिए माफी की दुआएं भी मांगते हैं।

इसके अलावा पैगंबर मोहम्मद ने यह भी कहा है कि मुसलमानों के रोजे ईसाई धर्म के मानने वालों से इसलिए अलग होते हैं।

क्योंकि ईसाई धर्म के लोग सहरी नहीं करते हैं और मुसलमान सहरी करके रोजा रखते हैं।

ramadan ke sehri me rakhe in bato ka dhyan
ramadan ke sehri me rakhe in bato ka dhyan

कैसे होता है सहरी का समय है रहमत और बरकत वाला

बड़े इस्लामिक धर्मगुरु यह बताते हैं कि सहरी का समय रहमत और बरकत वाला होता है। ऐसे मे सहरी के वक्त की जाने वाली दुआए अल्लाह कबूल करता है। ऐसे में यदि जो लोग आलास में आकर सहरी नहीं करते हैं वह बदनसीब होते हैं।

रमजान के महीने में सहरी को लेकर रखें यह ध्यान

रोजे मैं कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो पूरे दिन भूखे रहने के डर से सहरी में जरूरत से ज्यादा खा लेते हैं। जिस कारण से इन लोगों को रोजे के दौरान खट्टी डकार भी आती है, वह बदहजमी भी होने लगती है। इसलिए इन बातों का भी ध्यान रखें।

muslim ramzan me sehri kese karte hai
muslim ramzan me sehri kese karte hai

इस्लाम के अनुसार किस प्रकार से सहरी होनी चाहिए

जैसे-जैसे समय गुजरता जा रहा है, सहरी के तरीकों में भी काफी बदलाव आते जा रहे हैं। वैसे यह कहना गलत नहीं होगा कि आज की मॉडल लाइफ़स्टाइल का रमजान की सहरी और अन्य स्थान पर भी देखने को मिलता है। आजकल लोगों में सहरी को भी अपनी मॉडर्न लाइफस्टाइल का हिस्सा बना लिया है। जबकि इस्लाम में सहरी घर में रहकर परिवार के लोगों के साथ बैठकर बहुत सादगी के साथ करने की बात को बताया गया है। लेकिन आजकल लोग सहरी करने के लिए देर रात तक बाहर आउटिंग पर जाते हैं। उसके अलावा रेस्टोरेंट में तरह-तरह के शाही पकवान जैसे निहारी, बिरयानी, कबाब भी खाते हैं कई परिवारों में तो सहरी की दावते भी चलती है।

ramzan me sehri karne ke fayde
ramzan me sehri karne ke fayde

क्या मॉडर्न सहरी करने का तरीका सही है

आपको बता दें, मॉडर्न सहरी करने का तरीका सुनने में तो आपको भली अच्छा लगता है। लेकिन यह सेहत के लिए नुकसान पहुंचाता है। ऐसे में जिन भी लोगों को दिल और डायबिटीज की बीमारी हो उनको मॉडर्न सहरी के तरीकों से खुद को दूर रखा चाहिए। मतलब साफ है, अन हेल्थी चीजें खाने से सेहत को काफी नुकसान पहुंच सकता है।

किन चीजों का खास ख्याल सहरी में रखना चाहिए

आपको सहरी में नीचे दी गई बातों का खास ध्यान रखना चाहिए। जैसे:

  • इफ्तार से लेकर सहरी तक खाना खाते समय हाथों को अच्छे से धोना चाहिए। क्योंकि भूखे रहने पर शरीर में कमजोरी आ जाती है। और कीटाणु जल्दी हमला करते हैं।
  • गर्मी के समय रोजो में शरीर को हाइड्रेट रखने के लिए नारियल पानी, ऑरेंज जूस और ज्यादा से ज्यादा पानी पीना चाहिए।
  • यदि आप ने रोजा रखा हुआ है, तो धूप में बाहर निकलने से जितना ज्यादा हो सके उतना बचे। जिससे आपकी सेहत के लिए अच्छा होगा।
  • आपको इफ्तार और सहरी में ज्यादा से ज्यादा फल और प्रोटीन फाइबर युक्त वाली चीजें खानी चाहिए। और जो भी खा रहे हैं, उसे कम मात्रा में ही खाएं।
what type of food should be in ramadan sehri
what type of food should be in ramadan sehri
किन खाद्य पदार्थों में होता है ज्यादा प्रोटीन और फाइबर

सहरी और इफ्तार के समय ज्यादा प्रोटीन और फाइबर युक्त वाली चीजें खाने की सलाह दी जाती है। आपको बता दें, ज्यादा प्रोटीन और फाइबर अंडा, आलू और ब्रेड में होता है।

All story image source from Google

लगातार ऐसी जानकारी पाने के लिए आगे दिए सोशल बटन पर लाइक तथा फॉलो जरूर करे:

और

भविष्य में आने वाली नयी Health News अपडेट के लिए सीधे हाथ पर दिए नोटिफिकेशन को चालू (allow) और डाउनलोड करे फ़ास्ट Mobile App .

जानकारी को सबसे पहले अपने दोस्तों तक पहुंचने के लिए नीचे दिए सोशल मीडिया की मदद ले और शेयर करे ।

इस तरह की खबरों को सबसे पहले पढ़ने के लिए ‘सब्सक्राइब’ करे।


Author Profile

Prakash Panwar
Prakash Panwar
मैं एक फ्रीलॉंसर हिंदी कंटेंट राइटिंग करता है. मुझे टेक्नोलॉजी, एंटरटेनमेंट, पॉलिटिक्स और एजुकेशन जैसी बिट पर लिखना पसंद करता है. खाली समय में कंप्यूटर पढ़ना बहुत अच्छा लगता है. क्वालिफिकेशन की बात की जाये तो में बी-टेक कंप्यूटर साइंस से अध्यनरत हूँ.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *