Do not ignore these symptoms, because you may also have bird flu

अलर्टः इन लक्षणों को न करें नजरअंदाज, क्योंकि हो सकता है आपको भी बर्ड फ्लू

Health
1,354 Views

फ्लू के बारे में तो आप सभी जानते होगें इसके बारे में तो जहां तक सभी ने कुछ न कुछ सुना होगा। लेकिन इसके बारे में बारीकी से जानना हम सब के लिए बहुत जरूरी है। क्योंकि एक बार फिर से फ्लू दस्तक देने वाला है। सबसे पहले तो आपको यह बतादें की फ्लू कई प्रकार के होते हैं। इन्हे इंफ्लुएंजा भी कहा जाता है। इन्ही में से एक है बर्ड फ्लू जो जानवरोे के द्वारा इंसान में फैलने वाला एक खतरनाक वायरस है। इसलिए जरूरी है कि इस रोग से खुद को बचाने के लिए आप कुछ सावधानियां बरते।

आखिर क्या है बर्ड फ्लू

What is bird flu
What is bird flu

बर्ड फ्लू जैसी खतरनाक बीमारी के बारे में आज के समय में हर कोई जानना चाहता है। दरअसल एवियन एन्फ्लूएंजा नाम का वायरस बर्ड फ्लू के नाम से पाॅपुलर है। इस वायरस में इंसान व पक्षी सबसे अधिक प्रभावित होते हैं। यह चिकन, टर्की, गीस और बतख की प्रजाति जैसे पक्षियों को सबसे ज्यादा प्रभावित करता है। इस वायरस के संपर्क में आने से इंसान और पक्षी दोनों की मौत हो सकती है।

इंसानों तक बर्ड फ्लू कैसे पहुंचता है।

इंसानों तक इस वायरस के फैलने का कारण कुछ और नहीं बल्कि इन पक्षियों की नज़दीकियां हैं। दरअसल इंसानों में यह इंफेक्शन मुर्गियों या अन्य पक्षियों के बेहद निकट रहने से ही फैलती है। यानि मुर्गी की अलग-अलग प्रजातियों से डायरेक्ट या इन्डायरेक्ट काॅन्टेक्ट में रहने से इंसानों में बर्ड फ्लू वायरस फैलता है फिर चाहे मुर्गी जिंदा हो या मरी हुई। इंसानों में ये वायरस उनकी आंखों, मंुह और नाक के जरिए फैलता है।

इन लक्षणों से पहचाने बर्ड फ्लू

  • बुखार
  • हमेशा सर्दी-जुकाम रहना
  • नाक बहना
  • सिर में दर्द रहना
  • गले में सूजन
  • मांसपेशियों में दर्द
  • दस्त होना
  • जी घबराना
  • पेट के निचले हिस्से में दर्द
  • सांस लेने में प्राॅब्लम
  • मसूड़ों से खून का आना
  • थूक के साथ खून आना

कैसे बचें बर्ड फ्लू से

सबसे पहले तो इस बात का ध्यान रखें की जहां पर बर्ड फ्लू हो वहां हरगिज न जाएं। चिकन व मटन खाने से परहेज रखें। अगर कोई व्यक्ति इस वायरस से ग्रषित है तो उसके रहने की व्यवस्था अलग करें। नहीं तो उसके संपर्क में आने से अन्य को भी यह समस्या हो जाएगी। जब भी उस व्यक्ति से बात करें तो अपने सारे अंगो को ढंक कर बात करें। जहां तक संभव हो खुली हवा में रहने वाले पक्षियों से दूरी बनाएं रखें।

इन्फ्लूएंजा टीके का प्रयोग करें

अगर आप ऐसी जगह जा रहे हैं जहां पर इस प्रकार के वायरस होने की शंका है या फिर वहां पर यह वायरस मौजूद है तो डाॅक्टर से इन्फ्लूएंजा का टीका लगवाने के बारे में बात करें। यह टीका पक्षियों व मानव फ्लू वायरस एक साथ होने के संक्रमण के खतरे को कम करता है।

All story image source from Google

हमारे सोशल परिवार का हिस्सा बनने के लिए आगे दिए सोशल बटन पर लाइक तथा फॉलो जरूर करे:

और

भविष्य में आने वाली नयी Desi Gallery अपडेट के लिए सीधे हाथ पर दिए नोटिफिकेशन को चालू (allow) और डाउनलोड करे फ़ास्ट Mobile App .

जानकारी को सबसे पहले अपने दोस्तों तक पहुंचने के लिए नीचे दिए सोशल मीडिया की मदद ले और शेयर करे |

Author Profile

Ramgovind kabiriya
Ramgovind kabiriya
मैं रामगोविन्द कबीरिया मुझे लिखने का काफी शौक है, मैं कन्टेन्ट राइटिंग में पिछले तीन सालों से काम कर रहा हूॅं। मैंने इन्दौर के डीएवीवी यूनिवर्सटी से एम.ए. मासकम्युनिकेशन किया है। इसके अलावा मैंने कम्प्युटर के क्षेत्र से सम्बधित पीजीडीसीए भी किया है। मैं न्यूज़, फैशन, धर्म, लाईफस्टाइल, वायरल स्पाॅर्टस आदि सभी कैटेगिरी में लिखता हूॅं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *