Categories

Archives

क्रेडिट कार्ड की सुविधा व फायदे से पहले जान ले इसके इस्तेमाल और फीस

94 Views

credit card in hindi पहले पैसों का लेनदेन करने या खरीदारी करने का काम लिखा पढ़ी करके ही होता था। लोग अपने किसी दोस्त के सामने अक्सर पैसों का लेनदेन किया करते थे। लेकिन आज के दौर में पैसों का लेन-देन हो या फिर खरीदारी सब कुछ डिजिटल हो गया है। सरकारी आंकड़ों की मानें, तो क्रेडिट कार्ड के इस्तेमाल से खरीदारी और लेनदेन करने वालों की संख्या 5 करोड़ के भी पार पहुंच चुकी है। ऐसे में क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल तो बड़ा ही है। क्योंकि इसके कई सारे फायदे है। जो लोगों को दिखाई देते हैं। जब क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल इतना बढ़ रहा है। तो गलतियां होने के भी संभावना बढ़ी है। लेकिन उससे पहले हम आपको क्रेडिट कार्ड के फायदे के बारे में बताते है:

आयुष्मान भारत योजना | रजिस्ट्रेशन | नया कार्ड बनाये | अन्य लिंक्स

Credit card in hindi

  • क्रेडिट कार्ड के फायदे और नुकसान
  • कार्ड से ऑनलाइन फ्रॉड
  • कार्ड डिटेल शेयर करना क्यों गलत
  • बिल का भुगतान समय पर क्यों करें
  • मिनिमम डूयू पेय करना क्यों सही नहीं
  • क्या क्रेडिट कार्ड से कैश निकालना सही है
  • क्रेडिट कार्ड लिमिट क्यों खत्म ना करें
  • क्या रिवार्ड पॉइंट्स लेने के लिए खर्च करना चाहिए
  • अचानक क्रेडिट कार्ड बंद करवाना सही है

क्रेडिट कार्ड के फायदे

व्यक्ति खरीदारी करते समय उसके खाते में जमा राशि से ज्यादा की वस्तु भी खरीद सकता है। मतलब आपके खाते में जमा राशि का क्रेडिट कार्ड से कोई संबंध नहीं है।

  1. अगर आप समय पर क्रेडिट कार्ड की राशि का भुगतान करेंगे। तो आपको अच्छा क्रेडिट स्कोर मिलता है। जिससे भविष्य में बैंक आपको लोन भी दे सकती है।

2. ऑनलाइन शॉपिंग कंपनी क्रेडिट कार्ड के माध्यम से, किसी भी वस्तु की खरीद पर काफी सारा रुपया कैशबैक और छूट के रूप में देती है।

3. क्रेडिट कार्ड में धोखेबाजी की संभावना कम होती है। लेकिन अगर किसी शॉपिंग के अंतर्गत आपके साथ धोखेबाजी हो भी जाए। तो बैंक आपसे इसका चार्ज नहीं करेगी। लेकिन धोखेबाजी साबित होनी चाहिए।

4. मार्केट में कई ऐसे कार्ड भी मौजूद है। जिसमें सालाना शुल्क नहीं लगता है। मतलब आपको कार्ड के 1 साल पूरा होने पर किसी प्रकार की कोई फीस नहीं देनी होगी।
5. आपके कार्ड की मदद से किसी सामान को किस्तों में यानी ईएमआई के रूप में ले सकते हैं। यह ईएमआई की राशि आपके क्रेडिट कार्ड से अपने आप कट जाएगी।
6. महीने के अंत में आपको बैंक की तरफ से एक स्टेटमेन्ट मिलता है। जिसमें यह लिखा होता है कि आपने कब, कहाँ, कितनी शॉपिंग की है। जो आपको बजट बनाने में आसानी प्रदान करती है।

ATM फ्रॉड से बचाए SBI का नया ATM, ऐसे बदले अपना कार्ड

क्रेडिट कार्ड के नुकसान

1.आपके क्रेडिट कार्ड में हिडन चार्जेस और फीस भी मौजूद होते हैं। जो ज्यादातर लोगों को पता नहीं होता। लेकिन जब आपको कोई बिल मिलता है। तो उसमें हिडेन चार्जेस और फीस मौजूद होती है।

2.अपने कार्ड से शॉपिंग करने पर पेमेंट देरी से देने पर अतिरिक्त शुल्क भी लगता है। जो की काफी ज्यादा होता है। अगर आप समय पर शुल्क नहीं जमा कराएंगे। तो बैंक आप से ब्याज सहित पैसे वसूल करेगी।

3.बैंक इंटरनेशनल वेबसाइट की ट्रांजैक्शन पर कोई निगाह नहीं रखता है। जिस कारण से आपके साथ फ्रॉड होने की संभावना बनी रहती है। कंपनी केवल आपने देश में की गई ट्रांजैक्शन पर ही निगरानी रखती है।

4.क्रेडिट कार्ड लिमिट से ज्यादा की शॉपिंग करते हैं। तो आपको इसका अतिरिक्त चार्ज ब्याज सहित बिल में जोड़कर मिलता है।
5.अगर आप क्रेडिट कार्ड का बिल समय पर देते हैं। तो बैंक आपको पैसों की शॉपिंग करने की छूट देती है। जिसे क्रेडिट लिमिट भी कहते हैं। समय पर क्रेडिट कार्ड के बिल भरना, आपके क्रेडिट लिमिट को बढ़ा सकता है।

6.जिस भी वस्तु की खरीदारी आप क्रेडिट कार्ड से करते हैं। महीने के अंत में उस वस्तु का पैसा ना देने पर आपको हर दिन उस वस्तु की कीमत पर ब्याज लगना चालू हो जाता है।

क्रेडिट कार्ड से ऑनलाइन फ्रॉड

अगर आप क्रेडिट कार्ड के इस्तेमाल की गलती से रुबरु नहीं है। तो साइबर क्रीमर करने वाले हैकर्स कोई मौका नहीं छोड़ते हैं। इसके अलावा क्रेडिट कार्ड देने वाले बैंक कंपनी भी आपकी गलती करने का इंतजार करते हैं। क्योंकि आपकी गलती आप ही भरी पड़ जाती है। अगर आप भी क्रेडी९त कार्ड का इस्तमाल करते हैं। तो इन गलतियों से चौकन्ने हो जाइये:

कार्ड डिटेल शेयर करना क्यों गलत

बैंक या क्रेडिट कार्ड देने वाली कंपनी, आपको कार्ड के बारे में फ़ोन से कोई जनजकरि नहीं लेती है। अगर आपसे क्रेडिट कार्ड के बारे में जानकारी मांग रहा है। तो समझ लीजिए की आप फर्जीवाड़े के शिकार हो रहे हैं। पेट्रोल पम्प व दूसरी जगह पर पेमेंट के लिए अपना कार्ड देते समय यह जानकारी जरुर ध्यान में रखें। कि अपने के कार्ड का पिन व दूसरी अहम् जानकारी किसी को ना दे। अगर edc इलेक्ट्रोनिक डाटा केप्चर मशीन नजर नहीं आ रही है। तो अपना कार्ड किसी को भी ना दें। पिन डालने से पहले हमेशा मशीन में देखें कि कितने पैसे का भुगतान कर रहे हैं।

FDC Medicine: एफडीसी दवाइयां क्या है और क्यों लगा इन पर बैन

बिल का भुगतान समय पर क्यों करें

कोई भी क्रेडिट कार्ड कंपनियां केवल ऐसे ही ग्राहकों को पसंद करती है। जो समय पर अपने बिल का भुगतान करते हैं। जो समय बिल का भुगतान नहीं करते हैं। ज्यादातर कंपनी अपने ग्राहकों को ईमेल और एसएमएस के माध्यम से रिमाइंडर भेजती रहती है। ग्राहकों को भी चाहिए कि वह रिमाइंडर को नजरअंदाज ना करें। ताकि हमेशा बिल साइकिल पर ही भुगतान करें अगर पेमेंट नहीं करने पर ब्याज तो लगता है। ब्याज के साथ में साथ आपको जुर्माना भी देना पड़ता है। वहीं अगले महीने की गयी खरीदी भी इंटरेस्ट-फ्री नहीं रह जाती। और आपकी क्रेडिट स्कोर और क्रेडिट हिस्ट्री बिगड़ जाती है। जिससे भविष्य में आपको किसी प्रकार का लोन। तथा दूसरा क्रेडिट कार्ड मिलने का रास्ता खुद ब खुद बंद हो जाता है।

मिनिमम डूयू पेय करना क्यों सही नहीं

वैसे क्रेडिट कार्ड कंपनियां, आपके द्वारा किए गए खर्च और भुगतान करने की उम्मीद लगाए रहती है।

अगर आप सिर्फ मिनिमम ड्यू ही पे करते हैं।

तो आपके बकाया रकम पर 2 से 4% का ब्याज देना पड़ता है।

या ब्याज दर सालाना के आधार पर 24 से 48% तक हो जाती है।

आप ध्यान रखें कि दूसरे किसी भी कर्ज का इतना ब्याज नहीं देना पड़ता।

जब आपके कार्ड पर आउटस्टैंडिंग बैलेंस रहता है। तो अगली खरीद पर इंटरेस्ट फ्री एड की सुविधा भी खत्म हो जाती है। मतलब आगे की खरीदी पर आप पहले दिन से ही ब्याज जोड़ने लगता है। और मोटा ब्याज चुकाना पड़ता है। अगर आप पेमेंट करने की स्थिति में नहीं है। तो यह ईएमआई में करवा ले इस ईएमआई में आपको सालाना 15% से 18% का ब्याज देना होगा।

इनकम टैक्स से पाना चाहते हैं छुटकारा तो अभी अपना लें ये 6 तरीके

क्या क्रेडिट कार्ड से कैश निकालना सही है

credit card in hindi बिल्कुल भी नहीं! क्रेडिट कार्ड से कैश निकालना, आपको काफी महंगा पड़ सकता है।

क्योंकि निकाली गई राशि पर आपको 2.5 प्रतिशत चार्ज का लगता है।

इसके अलावा 2 से 4% प्रति माह की दर से ब्याज भी देना होगा।

ब्याज आपका उसी समय से जुड़ता है।

आपातकालीन स्थिति में ही आपको पैसा निकाला चाहिए।

अगर कभी पैसे निकालने भी पड़े तो बार-बार नहीं निकाले।

क्योंकि आपको हर बार विड्रोल का चार्ज भी देना होगा।

क्रेडिट कार्ड लिमिट क्यों खत्म ना करें

credit card in hindi आपकी शॉपिंग महीने में काफी ज्यादा होती है।

तो यह बात हमेशा ध्यान रखें कि क्रेडिट कार्ड की लिमिट को कभी भी पूरा इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

क्योंकि ऐसा करने पर आपका क्रेडिट स्कोर पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

एक साथ आप बड़ी रकम खर्च करने वाले को बैंक वित्तीय रूप से कमजोर मारने लगती है।

उनके हिसाब से आप डिफॉल्ट करने की संभावना में आने लगते हैं।

अगर आपके खर्चे ज्यादा है। तो एक कार्ड रखने की वजह आप दो या तीन कार्ड का उपयोग करें।

इससे आपके मोटे खर्चे आसानी से बाँट जाएंगे।

क्या रिवार्ड पॉइंट्स लेने के लिए खर्च करना चाहिए

credit card in hindi कार्ड की कंपनियां आपसे ज्यादा खर्च करने के लिए कई बार नए ऑफर लेके आती है।

जिसमें से कुछ ऑफर पॉइंट्स बढ़ाने को लेकर के होते हैं।

अधिक पॉइंट्स कमाने के लिए अधिक खर्च बिल्कुल ना करें।

बजट के मुताबिक खर्चों के लिए क्रेडिट कार्ड का उपयोग कर हर 2 साल में रिवॉर्ड पॉइंट्स का इस्तमाल करें।

अगर आपकी क्रेडिट कार्ड कंपनी अनुमति देती है।

तो कार्ड का इस्तेमाल बिल पेमेंट की लिए भी किया जा सकता है।

अचानक क्रेडिट कार्ड बंद करवाना सही है

credit card in hindi लोग दो या तीन कार्ड होंने की स्थिति में अपना एक कार्ड बंद करवा देते हैं।

ऐसा करने से क्रेडिट यूटिलाइजेशन रेश्यो बिगड़ जाता है।

किसी भी एक कार्ड को बंद करवाने में क्रेडिट यूटिलाइजेशन रेश्यो बढ़ जाता है।

क्योंकि पहले यह रेश्यो दो कार्ड में बाँटा हुआ था।

अब यह एक ही में होगा और दुगना होगा ऊंचा क्रेडिट यूटिलाइजेशन रेश्यो आपका क्रेडिट स्कोर खराब कर सकता है।

आप कार्ड का इस्तेमाल भले ही ना करें लेकिन इसे एक्टिव ही रखें तो सही है।

All story image source from Google

लगातार ऐसी जानकारी पाने के लिए आगे दिए सोशल बटन पर लाइक तथा फॉलो जरूर करे:

और

भविष्य में आने वाली नयी Life Easy अपडेट के लिए सीधे हाथ पर दिए नोटिफिकेशन को चालू (allow) और डाउनलोड करे फ़ास्ट Mobile App .

जानकारी को सबसे पहले अपने दोस्तों तक पहुंचने के लिए नीचे दिए सोशल मीडिया की मदद ले और शेयर करे ।

इस तरह की खबरों को सबसे पहले पढ़ने के लिए ‘सब्सक्राइब’ करे।


Prakash Panwar

मैं एक फ्रीलॉंसर हिंदी कंटेंट राइटिंग करता है. मुझे टेक्नोलॉजी, एंटरटेनमेंट, पॉलिटिक्स और एजुकेशन जैसी बिट पर लिखना पसंद करता है. खाली समय में कंप्यूटर पढ़ना बहुत अच्छा लगता है. क्वालिफिकेशन की बात की जाये तो में बी-टेक कंप्यूटर साइंस से अध्यनरत हूँ.

Hide Related Posts