रेल डिब्बों पर लिखे इन नम्बरों के बारे में रेल कर्मचारी भी नहीं जानते..

182 Views

हमारे आस-पास ऐसे बहुत सारे तथ्य हैं जिनके बारे में हम जानना तो चाहते हैं लेकिन इन तथ्यों के बारे में सटीक जानकारी नहीं मिल पाती। आज हम आपसे एक ऐसे ही तथ्य के बारे में चर्चा करने बाले हैं। दरअसल एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाने के लिए हम आमतौर पर हम लोग मोटर गाड़ी का इस्तेमाल करते हैं। वहीं अगर लम्बी दूरी का रास्ता तय करना है तो रेलगाड़ी को हम ज्यादा प्राथमिकता देगें।

तो चलिए रेलगाड़ी के ही तथ्य के बारे में चर्चा करते हैं। दरअसल रेलगाड़ी के प्रत्येक डिब्बे में कुछ अंक लिखे होते हैं। इन अंको को देखकर आपको क्या लगता है कि आखिर ये अंक क्यों लिखे होगें? अगर आप अब तक इस बात से अंजान हैं तो यहां पर हम आपसे कुछ इसी सिलसिले पर चर्चा करने वाले हैं।

6 आसान तरीके नए साल से अपनाये पैसो के लिए कर्ज लेने की जरुरत नहीं पड़ेगी

कोच पर लिखे होते हैं नम्बर

Numbers are written on Indian rail coaches
Numbers are written on Indian rail coaches

रेलगाड़ी के प्रत्येक कोच में 4, 5 या फिर 6 अंको का कोई भी नम्बर निहित होता है।

जिस पर सभी लोगो की नजर तो जाती है लेकिन बहुत ही कम लोग इसके बारे में जानते हैं।

अब इतना सब कुछ जानने के बाद आपके अंदर भी इन अंको का अर्थ जानने के लिए उत्सुकता बढ़ गई होगी।

यह सच बात है कि यह नम्बर किसी प्रदर्शनी के लिए नहीं लिखे रहते बल्कि वास्तव में इन नम्बरों का मतलब होता है।

अगर अब तक आप नहीं समझ पाए तो चलिए नीचे इसके बारे में विस्तार से जानते हैं।

3 तरीको से किसी भी बैंक का क्रेडिट कार्ड आपके हाथ में होगा

वर्ष को दर्शाते हैं

Reflect the year
Reflect the year

जानकर आपको थोड़ा अजीब जरूर लगेगा लेकिन ये नम्बर वर्ष को दर्शाते हैं।

अब आप सोचते होंगे कि ये कैसे वर्ष को दर्शा रहे हैं? दरअसल कोच पर 4, 5 या,

फिर 6 अंको की संख्याएं अंकित होती हैं, जिसमें से पहले दो अंक निर्माण वर्ष को दर्शाते हैं।

विस्तार से समझने के लिए चलिए आपको एक उदाहरण भी बता देते हैं।

मान लीजिए किसी कोच पर 8439 लिखा हुआ है तो इसका मतलब यही हुआ कि,

यह कोच 1984 में निर्मित हुआ, और अगर कोच पर 04052 लिखा है,

तो इसका मतलब यही हुआ कि यह कोच 2004 में निर्मिच हुआ है।

traffic challan enquiry: 6 देश जिनका ट्रैफिक चालान है भारत से 100 गुना

उदाहरण से समझिए

Understand by example
Understand by example

कोच पर लिखे नम्बरों के बारे में आप और उदाहरण देख लीजिए आपके पूरी शंका का समाधान होगा।

अभी तक आप शुरू के अंको को समझ रहे थे यहां पर हम आपको कोच पर लिखे सम्पूर्ण अंको का अर्थ उदाहरण सहित बता रहे है।

जी हां शुरू के अंक जहां वर्षों को दर्शाते हैं वहीं अंतिम अंक एसी कोच के बारे में बताते हैं चलिए उदाहरण से समझते हैं..

  • 8439- यह कोच 1984 में निर्मित हुआ था, वहीं 39 का मतलब समग्र 1 एसी और एसी-2 टियर कोच।
  • 04052- यह कोच 2004 में बना और इसके अंतिम अंक 052 का मतलब एसी-2 टियर है।
  • 9213- इस नम्बर का मतलब यह 1992 में बना था और 132 का मतलब एसी-3 टियर है।

ATM फ्रॉड से बचाए SBI का नया ATM, ऐसे बदले अपना कार्ड

कोच पर लिखे अक्षर का मतलब

Meaning of the letter written on the Indian Rail Coach
Meaning of the letter written on the Indian Rail Coach

अब तक आप कोच पर लिखे नम्बरों के बारे में जान रहे थे। लेकिन इन्हीं नम्बरों के दाईं ओर,

डब्ल्यू सी आर या फिर इसी के जैसे कई अक्षर लिखे होते हैं। तो क्या आप इन अक्षरों का मतलब जानते हैं।

दरअसल ये अक्षर दिशा को निर्धारित करते हैं,

लेकिन यहां पर ये रेल विभाग को दर्शा रहे हैं। चलिए आपको विस्तार से बताते हैं।

डब्ल्यू सी आर (WCR) का मतलब है कि इस कोच को पश्चिम मध्य रेलवे को आवंटित किया गया है।

ईआर (ER) का मतलब पूर्वी रेलवे और एनएफ (NF) का मतलब उत्तरी-सीमान्त, SR का मतलब दक्षिण रेलवे है।

यहां होता है कोच का निर्माण
Indian rail coaches are manufactured here
Indian rail coaches are manufactured here

अगर आपको यह नहीं पता की रेलगाड़ी के कोच का निर्माण कहां होता है? तो जान लीजिए कि आईसीएफ यानि इंटीग्रल कोच फैक्ट्री और आरसीएफ अर्थात रेल कोच फैक्ट्र में इन कोचों का निर्माण किया जाता है। एक बात और आपको बता दें कि हाल ही में आधुनिक कोच फैक्ट्री में निर्माण करने की भी योजना बन रही है।

All story image source from Google

लगातार ऐसी जानकारी पाने के लिए आगे दिए सोशल बटन पर लाइक तथा फॉलो जरूर करे:

और

भविष्य में आने वाली नयी Vastu Shastra अपडेट के लिए सीधे हाथ पर दिए नोटिफिकेशन को चालू (allow) और डाउनलोड करे फ़ास्ट Mobile App .

जानकारी को सबसे पहले अपने दोस्तों तक पहुंचने के लिए नीचे दिए सोशल मीडिया की मदद ले और शेयर करे ।

इस तरह की खबरों को सबसे पहले पढ़ने के लिए ‘सब्सक्राइब’ करे।