Categories

Archives

bhastrika pranayama रोजाना 5 मिनट देकर मोटापा कम करने वाला प्राणायाम

504 Views

क्या आपको भी बढ़ते वजन को काबू करने के लिए सारी कोशिशें फेल हो चुकी है? तो निश्चिंत रहें, आज हम आपको ऐसे योग के बारे में बताने वाले हैं। bhastrika pranayama जिसे बस 5 मिनट रोजाना करके आप अपने वजन पर काबू पा सकते हैं। वैसे तो यह एक प्रकार का प्राणायाम है। जो मोटापा कम करने के अलावा भी कई सारी बीमारियों से भी मुक्ति दिलाता है। आपको जानकर खुशी होगी कि यह प्राणायाम खुद योग गुरु बाबा रामदेव द्वारा बताया गया है। तो चलिए आइए जानते हैं, जरा इस प्राणायाम के बारे में विस्तार से:

क्या है मोटापे को काबू में करने वाला प्राणायाम

मोटापे को काबू में करने वाले प्रणब का नाम भस्त्रिका का प्राणायाम है।

इस भस्त्रिका का शब्द का अर्थ धौंकनी होता है।

bhastrika pranayama

इसका मतलब ऐसा बनाया, जिसमें लोहार की धौंकनी की तरह आवाज करते हुए वेग पूर्वक शुद्ध प्राणवायु को अंदर ले जाना होता है। और अशुद्ध वायु को बाहर फेंकना होता है।

कैसे करें bhastrika pranayama

इस प्राणायाम को लगाने के लिए सबसे पहले आपको पद्मासन या सुखासन की मुद्रा में बैठना होगा। इस मुद्रा में कमर, गर्दन और रीड की हड्डी को सीधा रखते हुए ज्ञान मुद्रा में बैठा जाए। बाद में नाक से इस तरह सांस भरें कि उसकी आवाज साफ साफ सुनाई दे। इसी तरह आवाज करते हुए सांस को बाहर भी छोड़े। सांस छोड़ने और लेने की प्रक्रिया भस्त्रिका का प्राणायाम कहलाती है।

भस्त्रिका का प्राणायाम में ध्यान में रखने वाली बातें

यदि आप भस्त्रिका का प्राणायाम लगा रहे हैं।

तो यह ध्यान रखें कि सांस लेते और छोड़ते वक्त हमारी लाइन ना टूटे।

मतलब साफ है कि आपको एक ही लाइन में यह दोनों काम करने होंगे।

प्राणायाम तो आपने लगा लिया, तो चलिए बात करते हैं। इससे जुड़ी सावधानियों की।

जाने bhastrika pranayama की सावधानियाँ

प्राणायाम करने वाले व्यक्ति यदि उच्च रक्तचाप, हृदयरोग, मस्तिष्क, ट्यूमर, मोतियाबिंद, आतिया पेट के अल्सर और पेचिश के मरीज हैं।

तो ऐसे लोग यह प्राणायाम बिल्कुल ना करें।

व्यक्ति गर्मियों में इसके बाद शीतली या शीतकारी प्राणायाम करना चाहिए। ताकि शरीर ज्यादा गर्म ना हो जाए।

क्या है भस्त्रिका प्राणायाम के लाभ

जो व्यक्ति bhastrika pranayama भस्त्रिका प्राणायाम को करता है। तो उसके शरीर से कार्बन डाइऑक्साइड बाहर निकलती है। जिससे व्यक्ति का खून साफ भी होता है। शरीर के अन्य सभी अंगों में खून का संचार भी होता है। इसके रोजाना अभ्यास से मोटापे को दूर किया जा सकता है। अगर आप यह प्राणायाम नियमित रूप से करते हैं। तो इससे आपको दमा, टीवी और सांसों के अन्य रोगों से भी काफी निजात मिलेगी। क्योंकि इससे आप के फेफड़े मजबूत होते हैं। साथ ही वात, पित्त और कफ दोष से भी मुक्ति मिलती है। यह भी बताया जाता है कि पाचन संस्थान, लिवर और किडनी की मसाज के लिए भी प्राणायाम उत्तरदाई है।

All story image source from Google

लगातार ऐसी जानकारी पाने के लिए आगे दिए सोशल बटन पर लाइक तथा फॉलो जरूर करे:

और

भविष्य में आने वाली नयी LifeStyle अपडेट के लिए सीधे हाथ पर दिए नोटिफिकेशन को चालू (allow) और डाउनलोड करे फ़ास्ट Mobile App .

जानकारी को सबसे पहले अपने दोस्तों तक पहुंचने के लिए नीचे दिए सोशल मीडिया की मदद ले और शेयर करे ।

इस तरह की खबरों को सबसे पहले पढ़ने के लिए ‘सब्सक्राइब’ करे।


Prakash Panwar

मैं एक फ्रीलॉंसर हिंदी कंटेंट राइटिंग करता है. मुझे टेक्नोलॉजी, एंटरटेनमेंट, पॉलिटिक्स और एजुकेशन जैसी बिट पर लिखना पसंद करता है. खाली समय में कंप्यूटर पढ़ना बहुत अच्छा लगता है. क्वालिफिकेशन की बात की जाये तो में बी-टेक कंप्यूटर साइंस से अध्यनरत हूँ.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Hide Related Posts