Categories

Archives

5 पुरानी आदतों को छोड़े बिना नहीं बना पायेगे खुद को पहले से बेहतर

48 Views

पिछले साल जो हुआ वो ठीक था। लेकिन अब नए साल में कुछ करने के लिए। आपको कुछ नया करना चाहिए। ऐसा करने के लिए आपको कुछ पुरानी आदतों को छोड़ना होगा। जो पिछले साल आपके सफलता में बाधा बनती रही। ताकि नए साल में आप अपने अपडेट वर्जन या पहले से बेहतर बन सके। self improvement tips in hindi जिसके बाद आप खुद को वर्कप्लेस में बेहतर परफॉरमेंस दे पाएंगे। तो चलिए जानते हैं, नए साल पर को बेहतर बनाने के लिए क्या करे:

यह भी पढ़े: 6 आसान तरीके नए साल से अपनाये पैसो के लिए कर्ज लेने की जरुरत नहीं पड़ेगी

via GIFER

 

Self improvement tips in hindi

  1. टाइम पर ना जाने की आदत छोड़
  2. लंबे समय का ब्रेक
  3. ऑफिस और परिवार दोनों को समय दे
  4. आपकी जिंदगी फोन में नहीं है
  5. आलोचना भी है जरूरी
time par na jane ki aadat se kaise bache
time par na jane ki aadat se kaise bache

टाइम पर ना जाने की आदत छोड़

इस बार यह कोशिश करें कि आपने यदि किसी को कहीं मिलने के लिए टाइम दिया है। तो वहां पर समय रहते पहुंच जाइये। ऐसा सुन्ना आपको बोरिंग जरूर लगा होगा। लेकिन अगर इस आदत को आप अब तक नहीं अपना पाये हैं। तो अब अपना लीजिए क्योंकि इसे अपनाने के बाद आप ऑफिस टाइमिंग और जरूरी काम की जगह पर समय पर पहुंच सकेंगे।

यह भी पढ़े: नए साल की शुरुआत अपनी राशि के भगवान की पूजा से करे

लंबे समय का ब्रेक

अपने काम के दौरान आपको ब्रेक लेना भी बहुत जरूरी है। क्योंकि खासतौर पर देखा गया है। जो लोग एक जगह बैठ कर या खड़े रहकर काम करते हैं। उन्हें ब्रेक लेने की भी आवश्यकता होती है। क्योंकि ब्रेक के दौरान की जाने वाली एक्टिविटी। या चहल कदमी से बॉडी का ब्लड सर्कुलेशन बढ़ता है। और आप भी एनर्जेटिक हो जाते हो जाते हो। आपमें फिर से काम करने के ताकत आती है। इसके साथ आपकी स्पीड भी बढ़ जाती है। लेकिन इसका मतलब यह भी नहीं है कि आप दिनभर बस ब्रेक ही लेते रहे।

office or ghar me game role play karne ke fayde
office or ghar me game role play karne ke fayde

ऑफिस और परिवार दोनों को समय दे

आपको अपनी पर्सनालिटी, फैमिली और करियर पर पूरा ध्यान देना चाहिए।

आपको इन तीनों जगह अपनी मौजूदगी दिखते हुए काम करना होगा।

ताकि आपको भविष्य में अचे रिजल्ट मिले।

यह भी पढ़े: मनचाही नौकरी पाने के लिए हो रहे परेशान, तो अभी से शुरू करें उपाय

apki jindgi kewal phone chalane me nahi hai
apki jindgi kewal phone chalane me nahi hai

आपकी जिंदगी फोन में नहीं है

देखिए बुरा मानाने वाली बात नहीं है। लेकिन मोबाइल ने हम सभी को अपना गुलाम बना रखा है।

फिर चाहे परिवार और दोस्तों की जगह हम मोबाइल के साथ ज्यादा व्यस्त रहने लगे हैं।

इसलिए याद रखिए, अपने अच्छे बुरे वक्त के साथ में खड़े होने वाले लोगों से मिला चाहिए।

मोबाइल उन्हें कभी भी रिप्लेस नहीं कर सकता याद रखिए।

alochnao se behtar kaise bane
alochnao se behtar kaise bane

आलोचना भी है जरूरी

self improvement tips in hindi कुछ लोग के लिए शायद आलोचना सह पाना बर्दाश के बहार होता होगा। लेकिन जादातर लोग अपनी आलोचना सुनने के बाद आपफे से बहार हो जाते हैं। लेकिन जरुरी तो यह कि अगर आपको आगे सही तरीके से काम करना है। तो चाहे ऑफिस का बॉस हो या फिर परिवार का कोई विशेष आपको ऐसी आलोचना सुनने के बाद में नाराज नहीं होना चाहिए। बल्कि उनकी बातों को ध्यान सुनकर खुद को बेहतर बनाने के लिए प्रयास करना चाहिए।

यह भी पढ़े: stories in hindi 4 मटको की व्यथा | प्रेरणास्पद हिंदी कहानी

All story image source from Google

लगातार ऐसी जानकारी पाने के लिए आगे दिए सोशल बटन पर लाइक तथा फॉलो जरूर करे:

और

भविष्य में आने वाली नयी lifestyle अपडेट के लिए सीधे हाथ पर दिए नोटिफिकेशन को चालू (allow) और डाउनलोड करे फ़ास्ट Mobile App .

जानकारी को सबसे पहले अपने दोस्तों तक पहुंचने के लिए नीचे दिए सोशल मीडिया की मदद ले और शेयर करे ।

इस तरह की खबरों को सबसे पहले पढ़ने के लिए ‘सब्सक्राइब’ करे।


Prakash Panwar

मैं एक फ्रीलॉंसर हिंदी कंटेंट राइटिंग करता है. मुझे टेक्नोलॉजी, एंटरटेनमेंट, पॉलिटिक्स और एजुकेशन जैसी बिट पर लिखना पसंद करता है. खाली समय में कंप्यूटर पढ़ना बहुत अच्छा लगता है. क्वालिफिकेशन की बात की जाये तो में बी-टेक कंप्यूटर साइंस से अध्यनरत हूँ.

Hide Related Posts