The country felt 'Atal' jerk, at the age of 93, Vajpayee ji took the last breath

Breaking: देश को लगा ‘अटल’ झटका, 93 साल की उम्र में वाजपेयी जी ने ली अंतिम सांस

News
1,945 Views

राजनीतिक दल भाजपा सरकार के प्रथम प्रधानमंत्री आदरणीय श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी एक महान राजनेता के साथ भारत रत्न से सम्मानित महान पुरूष भी हैं। इनकी उपलब्धी और विचार हमेशा-हमेशा भारतवासियों के लिए जीवित रहेगें।

आज पूरा भारत अटल जी के निधन की वजह से एक असहनीय पीड़ा से गुजर रहा है। भाजपा सरकार द्वारा किये जा रहे कई राजनीतिक कार्य और रैलियों को विराम दे दिया गया है। बतादें की पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी जी की तबीयत ज्यादा बिगड़ने के कारण उन्हे काफी समय से लाइफ सपोर्ट में रखा गया था। अभी थोड़ी देर पहले ही अटल बिहारी वाजपेयी जी ने अंतिम सांस ली।

वाजपेयी जी ने ली अंतिम सांस

Vajpayee ji took the last breath
Vajpayee ji took the last breath

काफी दिनों से बिगड़ी हुई थी तबियत

भारत रत्न से सम्मानित पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी,

की काफी दिनों से तबियत बिगड़ी हुई थी। 11 जून को किडनी, नली में संक्रमण,

सीने में जकड़न और पेशाब की नली में संक्रमण होने के चलते एम्स में भर्ती कराया गया था।

तीन बार देश के प्रधानमंत्री रहे वाजपेयी जी एक लोकप्रीय राजनेता के साथ कुशल प्रशासक भी रहे हैं।

देश के हित के लिए कई कदम उठाए अटल जी ने

Vajpayee ji took several steps for the country's interest
Vajpayee ji took several steps for the country’s interest

देश के विकास का सपना देखा था अटल जी ने। आर्थिक मोर्चे पर उन्होने कई ऐसे कदम उठाए,

जिनसे देश की दशा और दिशा बदल गई। 2004 में जब वाजपेयी जी ने मनमोहन सिंह जी को सत्ता सौंपी थी,

तब अर्थव्यवस्था की तस्वीर बेहद मजबूत थी। जीडीपी ग्रोथ रेट 8 प्रतिशत से अधिक था,

मंहगाई दर 4 प्रतिशत से कम थी और विदेशी मुद्रा भंडार भी अपने उच्चतम स्तर पर था।

जब पहलीबार अटल जी ने किया था परमाणु परीक्षण

वाजपेयी की सरकार ने 11 मई, 1998 को पोखरण में परमाणु परीक्षण किया था। अचानक किए गए इस पोखरण परीक्षण से अमेरिका, पाकिस्तान समेत कई देश चौंक गए थे। पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम की अगुवाई में इस परीक्षण को अंजाम दिया गया था। वाजपेयी से पहले इंदिरा गांधी की सरकार ने 1974 में पहला परमाणु परीक्षण (पोकरण-1) किया था और इसे ऑपरेशन ‘स्माइलिंग बुद्धा’ नाम दिया गया था।

Desi Dozz

देश के आदर्श परम श्रध्देय आदरणीय श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी ने हम सभी को अलविदा कह दिया। यह स्थिती देश के लिए एक असहनीय पीड़ा के समान है। देश ने एक महान पुरूष को खो दिया, लेकिन इनके विचार हमेशा के लिए जीवित हैं, जीवित थे और जीवत ही रहेगें। देश के महान पुरूष एवं राजनेता परम श्रध्देय आदरणीय श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी के निधन पर सहृदय श्रध्दांजलि। ईश्वर से प्रार्थना है कि अटल जी की आत्मा को शांति मिले।

All story image source from Google

हमारे सोशल परिवार का हिस्सा बनने के लिए आगे दिए सोशल बटन पर लाइक तथा फॉलो जरूर करे:

और

भविष्य में आने वाली नयी Breaking News अपडेट के लिए सीधे हाथ पर दिए नोटिफिकेशन को चालू (allow) और डाउनलोड करे फ़ास्ट Mobile App .

नीचे दी गयी स्टोरी भी पढ़े:

मात्र 100 से 150 रूपये किलो में मिलने वाली इस दवा से करें कैंसर जैसी घातक बीमारी का उपचार

सिर्फ शंख बजाने के हैं कई फायदे एक-एक फायदा आपको हैरान कर देगा

15 August 2018: भारत ही नहीं ये देश भी 15 अगस्त के दिन गुलामी से मुक्त हुए थे

Breaking: आने वाले 15 अगस्त को प्रधानमंत्री मोदी तमाम जनधन खाता धारकों को ये तोहफा दे सकते हैं

Author Profile

Ramgovind kabiriya
Ramgovind kabiriya
मैं रामगोविन्द कबीरिया मुझे लिखने का काफी शौक है, मैं कन्टेन्ट राइटिंग में पिछले तीन सालों से काम कर रहा हूॅं। मैंने इन्दौर के डीएवीवी यूनिवर्सटी से एम.ए. मासकम्युनिकेशन किया है। इसके अलावा मैंने कम्प्युटर के क्षेत्र से सम्बधित पीजीडीसीए भी किया है। मैं न्यूज़, फैशन, धर्म, लाईफस्टाइल, वायरल स्पाॅर्टस आदि सभी कैटेगिरी में लिखता हूॅं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *