निरंतर जनजातीय विकास की ओर संकल्पित हैं, गजेन्द्र सिंह पटेल

politics
3,243 Views

आज भी समाज में जातिवाद ने अपने पैर पसारे हुए हैं। यह चाहे शहरी हो या फिर ग्रामीण स्तरीय पर जातिवाद अभी भी पनपा हुआ है। लोग भले इसे इतिहास मानते हों या फिर यह सोचते हों कि यह पहले हुआ करता था अब नहीं। लेकिन वास्तव में जातिवाद आज भी समाज में पनपा हुआ है, यह उन लोगो के साथ देखने को मिलता है, जो आगे बढ़ रहे हैं।

यह आमतौर पर सार्वजनिक नहीं बल्कि पर्दे के पीछे होता है जिसका एहसास समाज को नहीं होता, समाज सिर्फ आज भी इतना ही जानता है कि जातिवाद समाज से खत्म हो चुका है। आज भी अनुसूचित जाति और जनजाति के लोग जातिवाद की वजह से आगे नहीं बढ़ पा रहे हैं।

उन्हे उनकी छोटी जाति या फिर निम्न जाति के कारण पीछे धकेला जाता है और ऐसी छोटी सोच रखने वाले हमारे ही समाज के बड़ी-बड़ी जगहों पर पदस्थ पदाधिकारी हैं जो अपने आपको SC और ST से ऊंचा मानते हैं।

World Heart Day: नींद की अनियमितता दिल को बना रही जल्दी बूढ़ा

अनुसूचित जनजाति विकास की ओर एक कदम

Gajendra Singh Patel One step towards Scheduled Tribes Development
Gajendra Singh Patel One step towards Scheduled Tribes Development

समाज में वर्षों से अनुसूचित जनजाति के लोगो को हमेशा से पीछे रखा गया है,

उनसे उनका हक छीना जा रहा है। उन्हे आगे बढ़ने से रोका जा रहा है।

यह भले सामाजिक स्तर पर न दिखाई देता हो लेकिन व्यक्तिगत रूप से शहर में भी ऐसा होता है,

जिसके खिलाफ आवाज उठाना जरूरी है। आज के समय में भारत आजाद है,

और यहां पर सभी को आगे बढ़ने का पूरा हक है। लेकिन समाज में व्याप्त जातिवाद आज भी अनुसूचित जाति.

और जनजाति के लोगो को आगे बढ़ने से रोक रहा है। वहीं कुछ लोग समाज में ऐसे भी हैं,

जो इन पिछड़े लोगो की सहायता कर उनके आगे बढ़ने का मार्ग प्रशस्त करते हैं।

उन्ही में से एक हैं मध्यप्रदेश राज्य के बड़वानी जिले में रहने वाले गजेन्द्र सिंह पटेल।

नारियल पानी वाकई में किसी अमृत से कम नहीं, इसके फायदे आपको हैरान कर देगें

गजेन्द्र सिंह पटेल की पुकार जनजातीय उन्नति के लिए

Call of Gajendra Singh Patel for Tribal Growth
Call of Gajendra Singh Patel for Tribal Growth

बड़वानी के लोगो के लिए गजेन्द्र सिंह पटेल वह नाम है जिन्हे प्यार से लोग ‘भैया’ कहकर पुकारते हैं। वाकई में गजेन्द्र भैया, भाई का फर्ज़ अदा करते हुए अनुसूचित जनजाति के लोगो को निरंतर आगे बढ़ने और उनके विकास के लिए खड़े रहते हैं। वह उनके हर कार्य में हाथ बंटाते हैं, जिनसे अनुसूचित जनजाति के लोगो को सहायता पहुंच सके। चलिए आगे बात करते हैं बड़वानी जिले के रहने वाले गजेन्द्र सिंह पटेल के बारे में….

जिम के तुरंत बाद मोसंबी के जूस का सेवन अमृत बन जाता है

गजेन्द्र सिंह पटेल को प्यार से लोग भैया कहते हैं

Gajendra Singh Patel is lovingly called Bhaiya
Gajendra Singh Patel is lovingly called Bhaiya

बड़वानी जिले के रहने वाले गजेन्द्र सिंह पटेल मध्यप्रदेश राज्य में भारतीय जनता पार्टी के अनुसूचित जनजाति मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष हैं। यह अनुसूचित जनजातीय समाज के विकास के लिए निरंतर प्रयत्नशील हैं। इन्होने लगातार अनुसूचित जनजाति के लोगो के विकास में सहायता की है और आज भी कर रहे हैं। समाज को आज भी इन जैसे लोगो की जरूरत है। जो दूसरो को आगे बढ़ने और विकास का मार्ग प्रशस्त करने में सहायता करें।

All story image source from Google

हमारे सोशल परिवार का हिस्सा बनने के लिए आगे दिए सोशल बटन पर लाइक तथा फॉलो जरूर करे:

और

भविष्य में आने वाली नयी Politics News के लिए सीधे हाथ पर दिए नोटिफिकेशन को चालू (allow) और डाउनलोड करे फ़ास्ट Mobile App .

नीचे दी गयी स्टोरी भी पढ़े:

जब अचानक से होने लगे कान में दर्द तो इस घरेलु नुस्खे से तुरंत आराम पायें

रोज सुबह खाली पेट करें बस एक सेब का सेवन फायदे आपको हैरान कर देंगे

हर उम्र में जरूरी है नींद, जान लें कितने घंटे सोना चाहिए आपको

इस तरह पानी का सेवन घुटनों में करता है दर्द उत्पन्न

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating / 5. Vote count:

As you found this post useful...

Follow us on social media!

We are sorry that this post was not useful for you!

Let us improve this post!

Author Profile

Ramgovind kabiriya
Ramgovind kabiriya
मैं रामगोविन्द कबीरिया मुझे लिखने का काफी शौक है, मैं कन्टेन्ट राइटिंग में पिछले तीन सालों से काम कर रहा हूॅं। मैंने इन्दौर के डीएवीवी यूनिवर्सटी से एम.ए. मासकम्युनिकेशन किया है। इसके अलावा मैंने कम्प्युटर के क्षेत्र से सम्बधित पीजीडीसीए भी किया है। मैं न्यूज़, फैशन, धर्म, लाईफस्टाइल, वायरल स्पाॅर्टस आदि सभी कैटेगिरी में लिखता हूॅं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *