Categories

Archives

Shakambari navratri शाकंभरी नवरात्रि मनाने का अद्भुत रहस्य कम लोग ही जानते है

61 Views

Shakambari navratri भारत में आये दिन कोई ना कोई त्यौहार आता ही रहता हैं। फिर चाहे बह उपवास हो या फिर कोई व्रत। ऐसे में आपको बताते हैं कि फ़िलहाल शाकंभरी नवरात्रि चालू है जो पूरी 9 दिनों तक मनाई जाती है। यह नवरात्री खास करके जनवरी में ही आती है। शायद कुछ लोगों को शाकंभरी नवरात्रि सुनके ताजुब हुआ होगा तो निश्चिन्त रहिये, इस आर्टिकल को पूरा पढ़ने के बाद आप जान पाएंगे। शाकंभरी नवरात्रि से जुड़े काफी सारे सवालों का जवाब:

यह भी पढ़े:  Navratri colours नवरात्री के नौ दिनों तक इस रंग के कपड़े पहन कर करें माता की आराधना

Shakambari navratri

  • क्या है शाकंभरी नवरात्रि
  • क्यों मनाई जाती है शाकंभरी नवरात्रि
  • शाकम्भरी नवरात्रि पर क्या करें

क्या है शाकंभरी नवरात्रि

कैलेंडर की माने तो यह पौष माह की शुक्ल पक्ष अष्टमी से लेकर के पूर्णिमा तक शाकंभरी नवरात्रि को मनाया जाता है। यह प्रकार की गुप्त नवरात्रि की तरह ही है। जिसका बहुत बड़ा महत्व भी है। दुर्गा के अवतार में एक माता शाकंभरी भी है। जिन्होंने अपने शरीर से उत्पन्न होने वाले फल और सब्जियों से लोगो का पोषण किया था। जिस कारण से इनका नाम शाकंभरी पड़ा।

यह भी पढ़े:  नवरात्री में क्यों की जाती है माता के दुसरे स्वरुप ब्रह्मचारिणी की आराधना, जानें इसके पीछे कि कहानी

why shakambari navratri celebration
why shakambari navratri celebration

क्यों मनाई जाती है शाकंभरी नवरात्रि

शाकंभरी नवरात्रि मनाने के पीछे पुराण में या बताया है। कि जब दानवो के द्वारा सृष्टि पर उत्पात मचाये जाने से। धरती पर अकाल पड़ने कि समस्या आ गयी थी। तब देवी शक्ति के द्वारा माता शाकंभरी के रूप में अवतार लिया। उस समय माता शाकंभरी की कुल मिलाकर एक हजार आंखें थी। माता द्वारा भक्तों का दयनीय रूप दिखा नहीं गया। वह 9 दिनों तक लोगो की इस स्थति को देख कर रोने लगी। उनके रोने से निकल ने वाले आसुओ से धरती पर अकाल का साया समाप्त हुआ। बाद में हरियाली छा गयी। ऐसी धार्मिक मान्यता भी है कि अकाल पड़ने पर देवताओं द्वारा मां दुर्गा की प्रार्थना के फलस्वरुप मां दुर्गा ने शाकंभरी का रूप लिया।

यह भी पढ़े:  mata ke solah singar: मां दुर्गा के श्रृंगार की क्या है महिमा

शाकम्भरी नवरात्रि पर क्या करें

जिस प्रकार shakambari navratri शाकंभरी माता द्वारा अपने आसुओ से लोगो। कि दयनीय स्थिति देखकर, उन्हें फल और सब्जिया दी।

ठीक उसी तरह आप भी इस दिन खुशी से फल, सब्जी इत्यादि को लोगों को दानकर सकते हैं।

फलों सब्जियों से उन्होंने प्राणियों की भूख प्यास को मिटाया था।

उनकी आशीर्वाद से धरती पर बारिश होती। और जनजीवन दोबारा वापस आया है।

यह शाकंभरी नवरात्रि के पीछे की मान्यता है।

All story image source from Google

लगातार ऐसी जानकारी पाने के लिए आगे दिए सोशल बटन पर लाइक तथा फॉलो जरूर करे:

और

भविष्य में आने वाली नयी Desi Festival अपडेट के लिए सीधे हाथ पर दिए नोटिफिकेशन को चालू (allow) और डाउनलोड करे फ़ास्ट Mobile App .

जानकारी को सबसे पहले अपने दोस्तों तक पहुंचने के लिए नीचे दिए सोशल मीडिया की मदद ले और शेयर करे ।

इस तरह की खबरों को सबसे पहले पढ़ने के लिए ‘सब्सक्राइब’ करे।


Prakash Panwar

मैं एक फ्रीलॉंसर हिंदी कंटेंट राइटिंग करता है. मुझे टेक्नोलॉजी, एंटरटेनमेंट, पॉलिटिक्स और एजुकेशन जैसी बिट पर लिखना पसंद करता है. खाली समय में कंप्यूटर पढ़ना बहुत अच्छा लगता है. क्वालिफिकेशन की बात की जाये तो में बी-टेक कंप्यूटर साइंस से अध्यनरत हूँ.

Hide Related Posts