इसी श्राप के कारण कुत्ते आज भी करते है खुले में सहवास

Religion
1,266 Views

प्राचीन काल में अगर कोई किसी को दण्डित करता था  तो वह उसे श्राप दे-देता था क्योंकि पहले श्राप देने का बहुत चलन था,

ऋषि मुनियों द्वारा क्रोधित होने पर श्राप ही दिया जाता था. इसी बात से सम्बंधित हम आज आपको एक और

श्राप से अवगत कराएँगे जिसे जानकर आप भी हैरान हो जाओगे.

 

 

पौराणिक कथा के अनुसार

महाभारत में द्रोपदि पांच देश के राजा द्रुपद कि पुत्री थी इसलिए उन्हें द्रोपदी और पांचाली कहा जाता है

द्रोपदी का विवाह पाँच पांडव के साथ हुआ था, लेकिन पांच पांडवो में यह तय हुआ था कि द्रोपदी एक-एक साल

में एक ही पांडव के साथ समय व्यतीत करेगी, ऐसे ही करके हम द्रोपदी को बराबर-बराबर समय दे पायेंगे,

और जब भी कोई हम पांचो में से द्रोपदी के पास जायेगा तो द्वार पर ही वह अपने चरण पादुका को रख देगा

ताकि दूसरा व्यक्ति यह जान जायेगा कि द्रोपदी के पास कोई है तथा अभी अन्दर जाना वर्जित है.

और नियम का उलंघन करने वाले को दण्डित कर दिया जायेगा.

 

 

और एक दिन ऐसी ही कुछ अनहोनी हो गयी जब युधिष्ठिर द्रोपदी के कक्ष में जा रहे थे तब युधिष्ठिर ने अपनी

चरण पादुका को द्रोपदी के कक्ष के बाहर उतार दिया था,

जिससे कि अन्दर आने वाले को ये अनुमान हो जाए

कि द्रोपदी के साथ कोई है, लेकिन जैसे ही युधिष्ठिर  द्रोपदी के कक्ष के बाहर अपनी पादुका उतारकर अन्दर गए

वैसे ही एक कुत्ता उनकी पादुका लेकर भाग गया, और थोड़ी देर बाद तभी अर्जुन का द्रोपदी के कक्ष में जाना हुआ.

 

#DesiDozz

तभी द्रोपदी अर्जुन को देखकर बहुत क्रोधित हुई,

तब अर्जुन ने बताया कि मुझे बाहर कोई पादुका नहीं दिखी

इसलिए में सीधा अन्दर चला आया. तब जानकर द्रोपदी को मालूम पड़ा कि

युधिष्ठिर कि पादुका कोई कुत्ता लेकर भाग गया है

और इस कारण यह घटना घटी है, तब द्रोपदी ने क्रोधवश में पूरे कुत्ते जाती को यह श्राप दे दिया कि

सम्पूर्ण विश्व तुम्हे सार्वजानिक रूप से मैथुन करते हुए देखेगा,

तभी से आज तक कुत्ते खुले में सभी के सामने सहवास करते है.

 

भविष्य में आने वाली ऐसी ही नयी जानकारियों के अपडेट को सबसे पहले पढ़ने और हमसे बने रहने के लिए सीधे हाथ पर दिए नोटिफिकेशन को चालू (allow) जरुर करें.

नीचे दी गयी स्टोरी भी पढ़े:

 

सुबह उठते ही भूल से भी न देखें ये चीज वरना पूरा दिन खराब जाएगा

बनना चाहते है अगर पैसे(Money) वाला तो ये 2 उपाय करेंगे आपकी मनोकामना पूरी

इस साल का पहला चन्द्र ग्रहण(lunar eclipse) पहुंचा सकता है इन 4 राशियों को हानि

इस साल का पहला चन्द्र ग्रहण(lunar eclipse) पहुंचा सकता है इन 4 राशियों को हानि

Author Profile

Ramgovind kabiriya
Ramgovind kabiriya
मैं रामगोविन्द कबीरिया मुझे लिखने का काफी शौक है, मैं कन्टेन्ट राइटिंग में पिछले तीन सालों से काम कर रहा हूॅं। मैंने इन्दौर के डीएवीवी यूनिवर्सटी से एम.ए. मासकम्युनिकेशन किया है। इसके अलावा मैंने कम्प्युटर के क्षेत्र से सम्बधित पीजीडीसीए भी किया है। मैं न्यूज़, फैशन, धर्म, लाईफस्टाइल, वायरल स्पाॅर्टस आदि सभी कैटेगिरी में लिखता हूॅं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *