safla ekadashi vrat katha in hindi

कथा: इस महीने है 2 एकादशी व्रत ऐसे खुलेंगे पुत्र प्राप्ति ओर मोक्ष के द्वार

Religion
395 Views

 

Story: This month there will be 2 Ekadashi vratas open, by receiving the son and salvation

क्या आप एकादशी का व्रत करते हैं, आपको बता दें वर्ष 2019 के जनवरी में इस बार तीन एकादशी आने वाले हैं। जिसमें से सफला एकादशी व्रत निकल चुका है। इसके अलावा अन्य दो एकादशी व्रत इस माह में आएंगे। देखा जाये तो, जनवरी माह 2019 में कुल 3 एकादशी व्रत होंगे। जिस कारण इस साल का यह पहला महीना महिलाओ के लिए और भी खास हो जाता है। तो चलिए जरा, safla ekadashi vrat katha महिलाओ के जनवरी माह को खास बनाने वाले सफला एकादशी व्रत के बारे में विस्तार से जानते हैं:

लाभ सफला एकादशी व्रत के

धार्मिक मान्यताओं की माने तो इस व्रत को भगवान विष्णु की सही पूजा विधि से की जाए।

तो व्रत करने वाले को पुत्र, धन और संपत्ति का लाभ मिलता है।

दूसरी ओर मृत्यु के पश्चात उसे मोक्ष की प्राप्ति भी होती है।

यदि आप में से कोई सफला एकादशी व्रत की विधि नहीं जानते है।

तो हम आपको बता दें, सामान्यतयाः आने वाली एकादशी व्रत की तरह इसकी विधि भी एक जैसी ही होती है।

god vishnu pooja on safla ekadashi vrat
god vishnu pooja on safla ekadashi vrat

safla ekadashi vrat katha नियम व्रत सफला एकादशी के

व्रत करने वाले को सुबह जल्दी उठकर के नहाना होता है। उसके बाद पूरे घर की सफाई करें। तत्पश्चात अक्षत, चंदन, फूल, गंगाजल, पंचामृत, धूप से भगवान विष्णु की पूजा ओर आरती कर भोग लगाएं।
इन सब क्रियाविधि के बाद भगवान के सामने बैठकर व्रत का संकल्प लें।

क्या ना करें एकादशी के व्रत के दिन

व्रत को करने वाले सभी लोगों को नीचे दी गई बातों का पालन करना चाहिए, जैसे:

– इस दिन व्रत रखने वाले को झूठ नहीं बोलना चाहिए।

– गुस्सा भी नहीं करना चाहिए।

– व्रत के दौरान किसी का जूठा भी नहीं खाना चाहिए तथा ब्रह्मचर्य का पालन करना चाहिए।

– महिला वह पुरुष को व्रत के दौरान एक बिस्तर पर नहीं सोना चाहिए।

– इस दिन मांस और शराब के सेवन से बचकर रहें।

ekadashi vrat pooja thali or vidhi
ekadashi vrat pooja thali or vidhi

क्या है एकादशी की व्रत कथा

लोगों के लिए एकादशी व्रत की कथा का महत्व बहुत ही उत्तम बताया गया है। क्योंकि व्रत करने के बाद यदि कोई एकादशी व्रत की कथा को सुन लेता है। तो उसे सुख शांति प्राप्त होती है। तो आखिर एकादशी व्रत की कथा क्या है, चलिए जरा हम भी सुनते हैं:
चंपावती नगर में एक राजा महिष्मत रहते थे। राजा महिष्मत को 5 पुत्र थे। जिसमें से बड़ा पुत्र लुम्भक था। जो हमेशा बुरे कामों में लगा रहता था।

जिसके कारण उसे राजा महिष्मत ने राज्य से बाहर कर दिया।

राजा का बड़ा बेटा फिर भी नहीं रुका और वन में चले जाने के बाद भी चोरी करने लगा। एक दिन जब वह रात्रि के दौरान नगर में चोरी करने के लिए आया, तो उसे सिपाहियों ने पकड़ लिया। लेकिन जब उसने सिपाहियों को यह बताया कि वह महिष्मत का पुत्र है। तो सिपाहियों ने उसे छोड़ दिया। जिसके बाद वापस लौट आया और वृक्षों के फल खाकर जिंदा रहने लगा। उस समय वहां एक पुरानी पीपल के पेड़ के नीचे रहता था।

raja mahishmat son lubhunk kahani of safla ekadashi vrat
raja mahishmat son lubhunk kahani of safla ekadashi vrat
कैसे बदला लुम्भक का जीवन

एक दिन अनजाने से उसने पौष मास के कृष्ण पक्ष मैं एकादशी का व्रत कर लिया। ठीक उसी समय एक आकाशवाणी हुई, जिसमें कहा गया कि राजकुमार लुम्भक! तुम सफला एकादशी के प्रभाव से जल्द ही राज्य और पुत्र प्राप्त करोगे। आकाशवाणी के बाद से लुम्भक का रूप दिव्य हो गया। तबसे लुम्भक उत्तम बुद्धि और भगवान विष्णु की भक्ति करने लगा। उसनेे 15 सालों तक सफलतापूर्वक राज्य किया। बाद में उसे मनोज्ञ नामक पुत्र हुआ। जब उसका पुत्र बड़ा हुआ, तो लुम्भक ने अपना राज्य अपने पुत्र को सौंप दिया। वह खुद स्वयं श्रीकृष्ण की भक्ति में रम गया। अंत में लुम्भक को एकादशी व्रत के प्रभाव के कारण विष्णु लोक को प्राप्त किया।

पूरी कथा सफला एकादशी की व्रत कथा के रूप में जानी जाती है।

All story image source from Google

हमारे सोशल परिवार का हिस्सा बनने के लिए आगे दिए सोशल बटन पर लाइक तथा फॉलो जरूर करे:

और

भविष्य में आने वाली नयी Religion News अपडेट के लिए सीधे हाथ पर दिए नोटिफिकेशन को चालू (allow) और डाउनलोड करे फ़ास्ट Mobile App .

जानकारी को सबसे पहले अपने दोस्तों तक पहुंचने के लिए नीचे दिए सोशल मीडिया की मदद ले और शेयर करे |

इस तरह की खबरों को सबसे पहले पढ़ने के लिए ‘सब्सक्राइब’ करे।


How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating / 5. Vote count:

As you found this post useful...

Follow us on social media!

We are sorry that this post was not useful for you!

Let us improve this post!

Author Profile

Prakash Panwar
Prakash Panwar
मैं एक फ्रीलॉंसर हिंदी कंटेंट राइटिंग करता है. मुझे टेक्नोलॉजी, एंटरटेनमेंट, पॉलिटिक्स और एजुकेशन जैसी बिट पर लिखना पसंद करता है. खाली समय में कंप्यूटर पढ़ना बहुत अच्छा लगता है. क्वालिफिकेशन की बात की जाये तो में बी-टेक कंप्यूटर साइंस से अध्यनरत हूँ.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *