विदेश में है भगवान विष्णु के 24वे अवतार का बेहद ही प्रसिद्ध मंदिर

Prakash Panwar
299 Views

 

हिंदू धर्म में मंदिरों को एक विशेष दर्जा दिया गया है। प्राचीन कथाओं की माने, तो हिंदू धर्म के भगवान विष्णु ने कई अवतारों में जन्म लिया है। ऐसे में उनके tian tan buddha 24 अवतार भगवान बुद्ध को बताया जाता है। आज हम आपको हिंदू मंदिर के बारे में बताएंगे, जो चाइना में स्थित है। इन मंदिरों में कई प्रकार की विशेषताएं पाई जाती है। शायद इससे पहले आप इन मंदिरों के बारे में नहीं जानते होंगे:

lord buddha famous temple of heaven
lord buddha famous temple of heaven

कहां है भगवान बुद्ध के प्रसिद्ध मंदिर

एशिया के हॉन्ग कोंग में नांगोंग पिंग के लान्ताऊ द्वीप में भगवान बुद्ध की विशाल मूर्ति स्थापित की है।

देखने में प्रकृति और मानव के बीच एक समाज से पूर्ण संबंध देखने को मिलता है।

vishnu bhagwan avatar buddha temple tian tan in hong kong
vishnu bhagwan avatar buddha temple tian tan in hong kong

tian tan buddha Interesting Facts

यह मूर्ति पोलिन मठ के पास हांगकांग में स्थित है।

इसे बौद्ध धर्म का केंद्र भी माना जाता है।

शायद यह मूर्ति इसलिए खास मानी जाती है। क्योंकि यहाँ भगवान उत्तर दिशा की ओर मुख करके बैठे हैं।

वहीं साथ अन्य बड़ी मूर्तियां में भगवान बुद्ध का मुख दक्षिण दिशा की ओर देखा जाता है।

how tian tan look like in hong kong
how tian tan look like in hong kong

क्या है tian tan buddha

आपको बता दें, इस विशालकाय मूर्ति को टियां टैन बुद्ध के नाम से जाना जाता है। दरअसल यह मूर्ति बीजिंग में स्थित टेंपल ऑफ हैवन में बनी बुद्ध की प्रतिमा से प्रेरित होकर बनायीं है। इस प्रतिमा का निर्माण सन 1990 में शुरू हुआ था। जिसका समापन 29 दिसंबर 1993 को किया गया। इस दिन को चीनी लोग बुद्ध की ज्ञान प्राप्ति के दिन के रूप में मनाते हैं। बेहद ही कम लोग यह जानते हैं कि भगवान बुद्ध कमल के सिंहासन पर विराजमान हैं। यह मूर्ति 112 फीट ऊंची है। जिसका वजन लगभग 250 मेट्रिक टन के बराबर है। जिसे बनाने के लिए 202 कांस्य टुकड़ों का इस्तेमाल किया गया है।

beautiful lord buddha temple tian tan
beautiful lord buddha temple tian tan

कैसी दिखती है टियां टैन बुद्ध की प्रतिमा

बड़े उचाई पर बनी भगवान बुद्ध की इस प्रतिमा तक पहुंचने के लिए आगंतुकों को 268 सीढ़ियां चढ़ने होती है। मूर्ति में भगवान बुद्ध का दाहिना हाथ उठा हुआ दिखाई देता है। जोकि दुखों को दूर करने का प्रतिनिधित्व करता है। मूर्ति के चारों ओर 6 छोटी कांसे की मूर्तियां भी दिखाई देती है। बताया यह भी जाता है कि यह छ: देवों की प्रतिमा है। वैसे यह देव भगवान बुद्ध को धूप, फूल, दीपक, पल संगीत और औषधि अर्पित कर रहे हैं। जिसमें उदारता, नैतिकता, उत्साह, ध्यान, धर्य और ज्ञान का प्रतीक है। जो कि ज्ञान प्राप्ति के लिए आवश्यक माने जाते हैं।

All story image source from Google

लगातार ऐसी जानकारी पाने के लिए आगे दिए सोशल बटन पर लाइक तथा फॉलो जरूर करे:

और

भविष्य में आने वाली नयी Religion अपडेट के लिए सीधे हाथ पर दिए। नोटिफिकेशन को चालू (allow) और डाउनलोड करे फ़ास्ट Mobile App .

जानकारी को सबसे पहले अपने दोस्तों तक पहुंचने के लिए नीचे दिए सोशल मीडिया की मदद ले और शेयर करे ।

इस तरह की खबरों को सबसे पहले पढ़ने के लिए ‘सब्सक्राइब’ करे।


Author Profile

Prakash Panwar
Prakash Panwar
मैं एक फ्रीलॉंसर हिंदी कंटेंट राइटिंग करता है. मुझे टेक्नोलॉजी, एंटरटेनमेंट, पॉलिटिक्स और एजुकेशन जैसी बिट पर लिखना पसंद करता है. खाली समय में कंप्यूटर पढ़ना बहुत अच्छा लगता है. क्वालिफिकेशन की बात की जाये तो में बी-टेक कंप्यूटर साइंस से अध्यनरत हूँ.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

क्या है हिन्दू धर्म में एक ही गोत्र में शादी ना करने को लेकर कारण

Pin2TweetShare810 Shares 299 Views  जिंदगी का एक बड़ा हिस्सा शादी भी होता है। हिंदू शास्त्रों में शादी के समय गोत्र का काफी महत्व होता है। ऐसा बताया जाता है कि गोत्र के बारे में पूजा पाठ और विवाह के दौरान दी गई जानकारी बहुत जरूरी होती है। ऐसे हिंदू रीति-रिवाजों […]
marriage in same gotra

Subscribe US Now