अनोखे फैक्ट्स: गूगल ने क्यों बनाया विंटर सोलस्टाइस का डूडल

winter solstice traditions facts
 
766 Views

 

Unique Facts: Why Google Made Winter Solstice Doodle

यह winter solstice विंटर सोलस्टाइस क्या चीज होती है, आज के दिन गूगल ने भी इसे अपना डूडल बना रखा है। सर्च इंजन गूगल के डूडल को देखने पर पता चलता है कि यह ठंड के समय को दिखाता है। आखिर गूगल के इस डूडल का क्या मतलब है और आज ही के दिन गूगल ने अपने वेब ब्राउजर में इसको क्यों लगाया है। तो चलिए जरा विस्तार से जानते हैं, इसके बारे में:

GAIL: 1,80,000 रुपये सैलरी के लिए सीनियर ऑफिसर पदों पर आवेदन

क्या है winter solstice

Winter Solstice 2018 इसका मतलब यह होता है कि आज का यह दिन सबसे छोटा है।

आपको बता दें, हर साल दिसंबर 21 तारीख का दिन सबसे छोटे दिनों में गिना जाता है।

जिस कारण से आज गूगल ने भी अपने डूडल में विंटर सोलस्टाइस का रूप दिया।

यदि आपके दिमाग में यह प्रश्न आ रहा है कि आज का दिन सबसे छोटा कैसे होता है। तो चली इसे भी समझ लेते हैं।

#MeToo कैंपेन ने ली आईटी कंपनी के अधिकारी की जान जिम्मेदार कौन?

sun and earth distance on winter solstice
sun and earth distance on winter solstice

21 दिसंबर के छोटे होने का मतलब

हर साल 21 दिसंबर दिन सबसे छोटे दिन में आता है। इसका मतलब साफ है कि दिन छोटा होगा और रात लंबी होगी।

आपको बता दें, आज के दिन सूरज से धरती काफी दूर रहती है।

जिस कारण चांद की रोशनी आज के दिन ज्यादा पड़ती है।

चीन कैसे मनाता है 21 दिसंबर का दिन

हमारे पड़ोसी मुल्क चीन में 30 दिसंबर का दिन Dongzhi Festival के रूप में मनाया जाता है।

वहां के लोग आज राइस बॉल खाते हैं और इस दिन को धूमधाम से सेलिब्रेट किया जाता है।

क्या आपने सोचा है, क्यों 21 दिसंबर को विंटर सोलस्टाइस नाम से पुकारा जाता है:

घुटने के दर्द से रहते हैं परेशान तो मात्र 10 मिनट में करें समाधान

winter solstice celebration with rice bowl in china
winter solstice celebration with rice bowl in china

वैज्ञानिक तथ्य पर विंटर सोलस्टाइस का मतलब

साइंस के तथ्य पर मने तो विंटर सोल्स्टिस के पीछे जो सोलस्टाइस शब्द है।

वह एक प्रकार का लैटिन शब्द है, जिसका मतलब “सूरत स्थिर” होता है।

आज सूर्य कैप्रिकॉन सर्कल तक पहुंचता है। जिसके बाद 25 दिसंबर से दिन धीरे-धीरे कर के बड़े होने लगते हैं।

प्रकृति में क्या कुछ होता है 21 दिसंबर के दिन

आज के दिन से पहले दिन छोटे हुआ करते थे और रातें लंबी हुआ करती थी।

लेकिन 21 दिसंबर के बाद से चांद की किरणें धरती पर ज्यादा देर तक रहेगी।

इस समय से पहले सूरज चला जाएगा। शायद इसी कारण आज का दिन सबसे ठंडा भी होता है।

MPSC में आयी नई भार्तियां आवेदन करने से पहले करे यह काम

actual date of makar sankranti from past 1700 years ago today
actual date of makar sankranti from past 1700 years ago today
आयरलैंड में 21 दिसंबर के दिन का सेलिब्रेशन

देश आयरलैंड में सोलस्टाइस से पहले ही 5000 लोग पुराने कब्रिस्तान पर जमा होते हैं। वहां यह लोग सूर्य की किरणें कब्रिस्तान पर पड़ने का इंतजार करते हैं। वैज्ञानिको की मानें तो पृथ्वी अपने अक्ष से साढ़े तेवीस झुकी हुई है।

21 दिसंबर को लेकर धार्मिक मान्यता

आज के दिन हिंदू मान्यता के अनुसार भी महत्वपूर्ण माना जाता है। क्योकि पुरानी मान्यताओं की मानें, तो धनु मास का अंतिम दिन वार्षिक मकर सक्रांति के रूप में जाना जाता है। हिन्दू मान्यताओं के हिसाब से आज से ठीक 1700 वर्ष पहले आज ही के दिन मकर सक्रांति मनाई जाती है।

ईयरफोन लगाकर गाना सुनने वाले ध्यान से पढ़ें ये खबर

All story image source from Google

हमारे सोशल परिवार का हिस्सा बनने के लिए आगे दिए सोशल बटन पर लाइक तथा फॉलो जरूर करे:

और

भविष्य में आने वाली नयी Tech News अपडेट के लिए सीधे हाथ पर दिए नोटिफिकेशन को चालू (allow) और डाउनलोड करे फ़ास्ट Mobile App .

जानकारी को सबसे पहले अपने दोस्तों तक पहुंचने के लिए नीचे दिए सोशल मीडिया की मदद ले और शेयर करे |

Author Profile

Prakash Panwar
Prakash Panwar
मैं एक फ्रीलॉंसर हिंदी कंटेंट राइटिंग करता है. मुझे टेक्नोलॉजी, एंटरटेनमेंट, पॉलिटिक्स और एजुकेशन जैसी बिट पर लिखना पसंद करता है. खाली समय में कंप्यूटर पढ़ना बहुत अच्छा लगता है. क्वालिफिकेशन की बात की जाये तो में बी-टेक कंप्यूटर साइंस से अध्यनरत हूँ.

Related posts

Leave a Comment